Trading Kya Hai | Trading क्या है – Trading कितने प्रकार की होती है जानिए

Trading Kya Hai | Trading क्या है – Trading कितने प्रकार की होती है जानिए ,हेलो दोस्तों आज हम जाने वाले हैं कि Trader कौन होता है, एक नया Trader  Trading  कैसे शुरू कर सकता है  Trading  मैं शुरुआती इन्वेस्टमेंट कितनी होती है  Trading मैं हम कितना कमाई कर सकते हैं   Trading कितने प्रकार की होती है  आज हम इस आर्टिकल में यह सब कुछ जानने वाले हैं

Trading Kya Hai ,Trading क्या है – Trading कितने प्रकार की होती है जानिए
Trading Kya Hai – Trading क्या है – Trading कितने प्रकार की होती है जानिए

 

 Trading Kya Hai  – ट्रेडिंग किसे कहते हैं

Trading kya hai in hindi – दोस्तों आप लोगों ने आज कल  Trading  यह शब्द बहुत ही ज्यादा सुना होगा तथा हर कोई व्यक्ति इसके बारे में बात कर रहा होगा  की Trading  से कितना Profit होता है इतना घाटा होता है  Trading  मैं इतना इन्वेस्ट किया तो चलिए जानते हैं  कि Trading kya hai

तो दोस्तों Trading हिंदी में व्यापार बोलते हैं जिसका मतलब होता है किसी चीज को खरीदना और  जब उस चीज का price  बढ़ जाए तब उस चीज को मार्केट में  बेच  देना जिससे कि हमें फायदा हो सके

ठीक इसी तरह ही  Share market  में हम किसी भी कंपनी के शेयर को खरीदते हैं जब  उस कंपनी में मुनाफा होता है तब उस कंपनी की कीमत बढ़ जाती है ऐसे में उस कंपनी के शेयर  की कीमत भी बढ़ जाती है अब हम उसके Share को बेच देते हैं इससे हमें मुनाफा होता है

Trading Meaning in Hindi – ट्रेडिंग का हिंदी अर्थ

Trading को  हिंदी में व्यापार बोलते हैं जिसका मतलब होता है किसी चीज को खरीदना और  जब उस चीज का price  बढ़ जाए तब उस चीज को मार्केट में  बेच  देना जिससे कि हमें फायदा हो सके

 

Share Market Trading Kya Hai – शेयर मार्केट में ट्रेडिंग क्या होती है

शेयर मार्केट में शेयर के खरीद-फरोख्त को ही शेयर मार्केट की ट्रेडिंग कहते हैं शेयर मार्केट ट्रेडिंग सुबह 9:30 बजे से लेकर दिन के 3:30 बजे तक चलती है इसी के बीच में सारे स्टॉकब्रोकर्स शेर की खरीद-फरोख्त करते हैं और मुनाफा बनाते हैं

 

 Trading और Investment में क्या अंतर है 

दोस्तों अब आप सोच रहे होंगे कि ट्रेडिंग और इंवेस्टमेंट में क्या अंतर है   तो अब हम जानेंगे कि Trading और Investment में क्या अंतर है  चलिए जानते हैं

1 Investment 

दोस्तों हम इन्वेस्टमेंट के अंदर किसी भी कंपनी के शेयर को एक लंबे समय के लिए होल्ड कर सकते हैं  और हम इन्वेस्टमेंट के अंदर किसी भी कंपनी के शेयर को बड़ी ही गहराई से सोच समझकर और स्टडी करके खरीदते हैं इन्वेस्टमेंट में पैसे एक बहुत ही लंबे समय में बनते हैं और रिस्क कम होता है क्योंकि हम अच्छी कंपनियों के शेयर को खरीदते हैं दोस्तों हमें  कंपनी में इन्वेस्टमेंट करने से पहले हमें कंपनी के बारे में फंडामेंटल एनालिसिस करना चाहिए

2 trading 

दोस्तों हम ट्रेडिंग में किसी भी कंपनी के शेयर को बहुत ही कम समय के लिए होल्ड कर सकते हैं ज्यादा से ज्यादा 1 महीने 1 घंटा 1 मिनट इत्यादि समय तभी हम इसके शेयर को होल्ड कर सकते हैं  इसमें हम शेयर खरीदते समय ज्यादा कुछ नहीं सोचते सिर्फ प्राइस  इंडेक्सिंग  को समझना होता है  यहां पैसे बहुत जल्दी बन जाते हैं और रिस्क भी  बहुत ज्यादा होता हैक्योंकि  प्राइस कभी भी ऊपर नीचे हो सकते हैं दोस्तों ट्रेडिंग में हम सिर्फ कंपनी के प्राइस में प्रेडिक्शन करते हैं और प्रॉफिट कमाते हैं इसके लिए हमें कंपनी के प्राइस की टेक्निकल एनालिसिस करनी चाहिए

 

Trading kitne prakar ki hoti hai – ट्रेडिंग कितने प्रकार की होती है

दोस्तों अभी तक हमने जान लिया है कि ट्रेडिंग किसे कहते हैं और ट्रेडिंग और इन्वेस्टमेंट में क्या फर्क होता है था और  ट्रेडिंग और इन्वेस्टमेंट में एनालिसिस कैसे करते हैं तो दोस्तों अब हम जाने वाले हैं कि  ट्रेडिंग कितने प्रकार की होती है

दोस्तों मुख्य रूप से ट्रेडिंग 4  प्रकार की होती है

  • scalping Trading 

  • Intraday Trading 

  • Swing Trading 

  • Position Trading 

 

1   Scalping trading kya hai

दोस्तों ट्रेडिंग के पहले टाइप को हम स्काल्पिंग कहते हैं इसमें हम किसी भी कंपनी के शेयर को कुछ मिनट के लिए खरीदते है और प्राइस जैसे ही बढ़ती है हम उसे बेचकर प्रॉफिट कमा लेते हैं

2  Intraday trading kya hai 

दोस्तों ट्रेडिंग के इस दूसरे टाइप को हम Intraday trading  कहते हैं इस प्रकार के ट्रेडिंग में हम किसी भी कंपनी के शेयर को कुछ घंटों के लिए खरीद कर अपने पास रखते हैं और उसी दिन मार्केट के क्लोज होने तक उस कंपनी के शेयर को बेचकर हम अपना प्रॉफिट कमाते हैं

3  Swing trading kya hai

दोस्तों ट्रेडिंग के इस तीसरे प्रकार को हम Swing  ट्रेडिंग कहते हैं इस प्रकार के ट्रेडिंग में हम किसी कंपनी के शेयर को कुछ दिनों के लिए अपने पास रखते हैं तथा 1 या 2 सप्ताह के अंदर कंपनी के शेयर के दाम बढ़ जाने पर हम उसे बेचकर अपना मुनाफा कमाते हैं

4  Positional trading kya hai

  दोस्तों ट्रेडिंग के इस चौथे प्रकार को हम  पोजीशन ट्रेडिंग कहते हैं  इस पोजीशन ट्रेडिंग के अंदर हम किसी भी कंपनी के शेयर को खरीद कर कुछ लंबे समय के लिए अपने पास रखते हैं जैसे 1 महीने एक हफ्ता आदि समय तक अपने पास रखें दाम बढ़ जाने पर उन्हें बेचकर अपना मुनाफा कमाते हैं

क्या  Trading से रोजाना  income की जा सकती है

दोस्तों अभी तक आपने जाना है कि Trading kya hai  Investment kya  है तथा ट्रेडिंग और इन्वेस्टमेंट कैसे करते हैं तथा इनके प्रकार क्या है तो हम जाने वाले हैं कि ट्रेडिंग से क्या रोजाना इनकम अर्थात रेगुलर इनकम हो सकती है क्या

हां दोस्तों  हम Trading से रोजाना इनकम कर सकते हैं अर्थात रेगुलर इनकम कर सकते हैं लेकिन ट्रेडिंग करने के लिए हमें ज्यादा पैसों की आवश्यकता होती है क्योंकि किसी कंपनी के शेयर से अच्छा प्रॉफिट वह भी कम समय में कमाने के लिए हमें उसके ज्यादा से ज्यादा शेयर खरीदने पड़ते हैं तथा ज्यादा शेयर खरीदने के लिए हमारे पास पैसों का होना बहुत ही आवश्यक है ताकि हम उचित मूल्य मिलने पर उसको बेचकर अपना प्रॉफिट ऑन कर सकें

ट्रेडिंग करने के लिए हमें किसी भी कंपनी की प्राइस इंडेक्सिंग का टेक्निकल एनालिसिस आना चाहिए इसके अंदर बहुत ही ज्यादा पैसा और दिमाग लगता है

 

Share Market Me Trading Kaise Kare  – शेयर मार्केट में ट्रेडिंग कैसे किया जाता है?

शेयर मार्केट में ट्रेडिंग करना बहुत ही आसान होता है शेयर मार्केट में ट्रेडिंग करने के लिए आपके पास में डिमैट अकाउंट और ट्रेडिंग अकाउंट होना चाहिए

दोस्तों डिमैट अकाउंट और ट्रेडिंग अकाउंट के बिना आप शेयर मार्केट में ट्रेडिंग नहीं कर सकते हैं क्योंकि इन्हीं के द्वारा आप शेयर की खरीद-फरोख्त कर सकते हैं और अच्छा मुनाफा कमा सकते हैं यह आपकी स्किल और अनुभव के ऊपर निर्भर करता है

About Dhirendra singh

मेरा नाम Dhirendra Singh Bisht है और मैं इस Technet ME फाउंडर और owner हूं , दोस्तों मैंने अभी अपनी डिग्री पूरी की है और मुझे लोगों की समस्याओं का हल करना अच्छा लगता है और मुझे लोगों को नई नई चीजें सिखाने में और Technology Business Banking ,Marketing के बारे में अच्छी जानकारी है

Leave a Comment