Technical Analysis क्या है ? Technical analysis कैसे करें

Technical analysis क्या है – Technical analysis kya hai in Hindi ,Technical analysis kaise kare, Technical analysis meaning in Hindi – आज की समय शेयर मार्केट में इन्वेस्ट करना बहुत ही आसान हो चुका है क्योंकि तकनीकी उपयोगिता और इंटरनेट की वजह से आज ट्रेडिंग और इन्वेस्टिंग बहुत आसान हो चुकी है आज के समय हमें कोई भी शेयर खरीदने से पहले उसका Fundamental analysis और Technical Analysis अवश्य करना चाहिए जिससे कि हम यह पता कर पाए कि वह Share market में कितना अच्छा परफॉर्मेंस कर पाएगा और हमें कितना प्रॉफिट लाकर देगा

Market Analysis को दो मुख्य भागों में बांटा गया है जिसमें Fundamental analysis और Technical Analysis को शामिल किया जाता है इसमें Fundamental analysis  तब किया जाता है जब हमें किसी शेयर में लंबे समय तक के लिए इन्वेस्ट करना हो और 

जबकि Technical Analysis तब किया जाता है जब हमें बहुत ही कम समय के लिए इसे Trading  करना हो और बहुत ही कम समय के लिए Invest करना हो 

दोस्तों आपको Technical analysis क्या है – Technical analysis kya hai in Hindi,Technical analysis kaise kare ,Technical analysis ke fayde  के बारे में जानना बहुत ही आवश्यक है दोस्तों इस लेख को शुरू से लेकर अंत तक पढ़े चली जानते हैं 

Technical Analysis क्या है  Technical analysis कैसे करें

Technical Analysis क्या है ? Technical analysis kya hai in hindi | What is technical analysis

अब जानने वाले हो कि Technical analysis kya hai – टेक्निकल एनालिसिस एक ऐसी प्रक्रिया होती है जिससे शेयर के बदलते स्वरूप के बारे में पता लगाया जाता हैऔर उस share के कीमतों का पूर्वानुमान लगाया जा सकता है

 टेक्निकल एनालिसिस किसी भी शेयर मार्केट में होने वाले मूवमेंट प्राइस ऑक्शन और शेयर की बदलती स्थिति शेयर की वॉल्यूम के बारे में पता लगाने के लिए किया जाता है टेक्निकल एनालिसिस उस समय किया जाता है जब किसी इन्वेस्टर ट्रेडर को बहुत कम समय के लिए अपना पैसा शेयर मार्केट में लगाना होता है 

टेक्निकल l-sys का अर्थ होता है कि ऐसा पहले हो चुका है और भविष्य में होने की संभावना कितनी है इस को चाटने के लिए हम टेक्निकल एनालिसिस करते हैं टेक्निकल एनालिसिस  करने के लिए हमें विभिन्न प्रकार के चार्ट और पैरामीटर पर ध्यान देना होता है 

 

Technical analysis meaning in Hindi – Technical analysis हिंदी अर्थ 

Technical analysis meaning in Hindi – टेक्निकल एनालिसिस एक ऐसी प्रक्रिया होती है जिसमें किसी स्टॉक के कुछ पैरामीटर को ध्यान में रखकर उसके कीमतों का भविष्य में पूर्व अनुमान लगाया  जाता है टेक्निकल एनालिसिस करने के लिए शेयर के विभिन्न प्रकार के पैरामीटर्स को ध्यान में रखा जाता है जिसमें उसकी पुरानी परफॉर्मेंस और कीमतों को मुख्य ध्यान रखा जाता है 

आजकल बाजार में कई सारे सॉफ्टवेयर और एप्लीकेशन आ चुके हैं जो आपको काफी आसानी से किसी भी शेयर के बारे में टेक्निकल एनालिसिस करके दे सकते हैं 

 

Technical analysis कब करना चाहिए – Technical analysis kab Kare

Technical analysis kab Kare – टेक्निकल एनालिसिस हम शर्ट टाइम ट्रेडिंग इन्वेस्टिंग के लिए कर सकते हैं हमें लॉन्ग टाइम तक ट्रेडिंग और इन्वेस्ट करने के लिए फंडामेंटल एनालिसिस का उपयोग करना चाहिए हमें टेक्निकल एंड सिस तब ही करना चाहिए जब हमें इंट्राडे ट्रेडिंग option trading  स्विंग ट्रेडिंग और शॉर्ट ट्रेडिंग करनी हो 

जब आपके गोल लगभग 5 से 10 साल तक के लिए होते हैं तो आपको अवश्य ही फंडामेंटल मैसेज करना चाहिए क्योंकि इसमें बहुत लंबे समय के हिसाब को ध्यान रखा जाता है टेक्निकल एनालिसिस हमेशा ही कम समय के लिए किया जाता है फंडामेंटल एनालिसिस में ही है जांच किया जाता है कि कंपनी कितना परफॉर्मेंस कर सकती है और आपको प्रॉफिट कितना दे सकती है जबकि टेक्निकल एनालिसिस में यह चेक किया जाता है कि यह अपना प्राइस कब बदलेगी और आपको कम समय में कैसे मुनाफा दे सकती है 

 

Technical analysis कैसे करें – Technical analysis kaise kare

अभी तक आपने जाना की टेक्निकल एनालिसिस क्या होता है अब जानेंगे कि स्टॉक मार्केट में शेयर का Technical analysis kaise kare – Technical analysis कैसे करें 

दोस्तों यदि आप शेयर मार्केट के बारे में जानते होंगे तो आप शेयर मार्केट की छोटी-छोटी मूलभूत इकाइयों को भी जानते ही होंगे उनमें से कैंडलेस्टिक चार्ट पेटर्न इंडिकेटर को ध्यान में रखते हुए किसी भी शेयर का टेक्निकल एनालिसिस किया जाता है उसके बाद लोग उस शेयर के ऊपर ट्रेडिंग  करना शुरू करते हैं टेक्निकल एनालिसिस करने के लिए शेयर का सपोर्ट एंड रेजिस्टेंस दिखाया जाता है शेयर की प्राइस ऑप्शन देखी जाती है टेक्निकल एंड सिस करने के लिए निम्न पैरामीटर पर ध्यान दिया जाता है 

Technical Analysis के पैरामीटर कौन से हैं – Technical analysis parameter in Hindi 

किसी भी शेयर का टेक्निकल एनालिसिस करने के लिए Technical analysis parameter in Hindi  को ध्यान में रखना बहुत ही जरूरी होता है जिसके द्वारा हम उस शेयर की मूवमेंट को पूर्व अनुमान लगा सकते हैं और उससे अच्छा प्रॉफिट बना सकते हैं चलिए जानते हैं कि वह पैरामीटर कौन-कौन से हैं 

 

  • Chat – चार्ट क्या है 

शेयर मार्केट में ट्रेडिंग करते समय यह चार्ट टेक्निकल एनालिसिस करते समय बहुत ही अधिक महत्व रखता है शेयर मार्केट में ट्रेडिंग के संबंध में चार्ट बहुत अलग-अलग प्रकार के होते हैं उनमें से कैंडलेस्टिक चार्ट वॉल्यूम चार्ट उसके अलावा अन्य प्रकार के भी चाट होते हैं जिनमें से कैंडलेस्टिक चार्ट का उपयोग सर्वाधिक किया जाता है 

  • Chart pattern – चार्ट पेटर्न क्या होता है 

चार्ट पेटर्न शेयर मार्केट में अलग-अलग प्रकार के होते हैं इसका मतलब यह है कि शेयर एकतरफा मूवमेंट नहीं करता है बल्कि वह जिकजक मूवमेंट करता है ऊपर नीचे भी होता है और एक अन्य प्रकार का चार्ट का निर्माण करता है तो हम चार्ट पेटर्न को देखकर अनुमान लगा सकते हैं कि इसकी मूवमेंट कब कैसे क्या रहेगी और टेक्निकल एंड सिस करके हम अच्छा प्रॉफिट कमा सकते हैं 

  • Indicators – इंडिकेटर का उपयोग करना 

टेक्निकल एनालिसिस करते समय इंडिकेटर्स का उपयोग बहुत उपयोग में किया जाता है क्योंकि इंडिकेटर्स ही होते हैं जो शेयर की टेक्निकली जानकारी देते हैं जैसे आर एस आई वॉल्यूममूविंग इत्यादि इंडिकेटर होते हैं जो कि टेक्निकल एनालिसिस में बहुत उपयोग होते हैं 

 

  • Price auction – प्राइस ऑक्शन का उपयोग 

शेयर मार्केट या स्टॉक मार्केट में शेयर की कीमत तथा प्राइस पर बहुत ज्यादा ध्यान दिया जाता है शेयर की मूवमेंट और प्राइस ऑक्शन देखकर शेयर की आगामी मूवमेंट का अनुमान लगाया जाता है टेक्निकल एनालिसिस में किसी कंपनी का एनालिसिस नहीं किया जाता है बल्कि केवल चार्ट और कुछ इंडिकेटर्स का अध्ययन करके एनालिसिस किया जाता है 

 

  • Share volume – वॉल्यूम का उपयोग करना 

शेयर के वॉल्यूम से अर्थ होता है कि उस शहर का स्टॉक एक्सचेंज (nse)  पर कितना ज्यादा खरीद और बिक्री हो रहा है अर्थात उसकी खरीद बिक्री कितनी है इसके आधार पर उस शेयर की टेक्निकल एनालिसिस करने में बहुत आसानी हो जाती है और बहुत अधिक प्रॉफिट कमाया जा सकता है 

 

Technical Analysis v/s Fundamental Analysis :- Technical Analysis v/s Fundamental analysis in Hindi

दोस्तों अभी तक आपने जाना है कि टेक्निकल एनालिसिस क्या है और टेक्निकल एनालिसिस कैसे करें अब जानने वाले हो कि टेक्निकल एनालिसिस और फंडामेंटल एनालिसिस में क्या अंतर होता है और किस प्रकार टेक्निकल एनालिसिस फंडामेंटल एनालिसिस से अलग होता है 

Technical Analysis vs Fundamental analysis in Hindi 

  • फंडामेंटल एनालिसिस में ऐतिहासिक आंकड़ों पर ध्यान दिया जाता है जबकि टेक्निकल एनालिसिस में प्राइस एक्शन वॉल्यूम इंडिकेटर्स एंड चार्ट पर ध्यान दिया जाता है 
  • फंडामेंटल एनालिसिस जब शेयर मार्केट में लंबे समय तक के लिए इन्वेस्ट करना हो तब किया जाता है जबकि टेक्निकल सपोर्ट ट्रेडिंग और शार्ट समय के लिए किया जाता है 
  • फंडामेंटल एनालिसिस करते समय किसी कंपनी के बारे में संपूर्ण तथ्यों का पता लगाया जाता है जैसे बिजनेस मॉडल उस कंपनी की मार्केट वैल्यू क्या है और कंपनी किस प्रकार मार्केट परफॉर्मेंस करती है उसका प्रोडक्ट क्या है और डिमांड सप्लाई कितनी है 
  • जबकि टेक्निकल एनालिसिस करते समय सिर्फ हमें शेयर के वॉल्यूम इंडिकेटर्स चार्ट पेटर्न तथा होने वाले मूवमेंट पर ध्यान दिया जाता है 

 

Technical analysis kya hai in Hindi – निष्कर्ष 

दोस्तों इस लेख को शुरू से लेकर अंत तक पढ़ने के लिए धन्यवाद अभी तक आपने जाना की Technical analysis क्या है – Technical analysis kya hai in Hindi,Technical analysis kaise kare ,Technical analysis ke fayde  आशा करता हूं कि आपको यह लेख अच्छा लगा होगा और इससे आपको अवश्य कोई न कोई महत्वपूर्ण जानकारी मिली होगी 

अपनी राय रखने के लिए नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट अवश्य करें 

About Dhirendra singh

मेरा नाम Dhirendra Singh Bisht है और मैं इस Technet ME फाउंडर और owner हूं , दोस्तों मैंने अभी अपनी डिग्री पूरी की है और मुझे लोगों की समस्याओं का हल करना अच्छा लगता है और मुझे लोगों को नई नई चीजें सिखाने में और Technology Business Banking ,Marketing के बारे में अच्छी जानकारी है

Leave a Comment