Positional trading क्या है – What is positional trading in Hindi 

Positional trading क्या है ,Positional trading kya hai in Hindi , Positional trading कैसे करें Best positional trading tips in Hindi – दोस्तों यदि आप Share market  में Trading  करते हो तो आपको Positional trading के बारे में अवश्य ध्यान होगा या मालूम होगा दोस्तों यदि आप शेयर मार्केट में long-term समय में अच्छा मुनाफा कमाना चाहते हो तो Positional trading(Positional trading in Hindi)  आपके लिए एक अच्छा विकल्प हो सकता है

 positional trading   Intraday trading  की तरह टेंशन ना दे कर के Share market  में trading  करने की सुविधा प्रदान कर सकता है  दोस्तों से क्या आप जानते हो कि कोई भी Trading  Risk  फ्री नहीं होती है हमेशा ही Trading  रिस्क तो होता है लेकिन आप अपने सूझबूझ और अच्छी सलाह से अच्छी Trading  कर सकते हो

दोस्तों इस लेख में आप जानने वाले हो  कि Positional trading kya hai in Hindi , Positional trading कैसे करें ,Positional trading benefits in Hindi ,Positional trading strategy and tips in Hindi  ,   दोस्तों इस लेख को शुरू से लेकर अंत तक अवश्य पढ़ें इसमें आपको अवश्य कुछ ना कुछ महत्वपूर्ण जानकारी अवश्य प्राप्त होगी

Positional trading क्या है - What is positional trading in Hindi 
Positional trading क्या है – What is positional trading in Hindi

Positional trading क्या है  – What is positional trading in Hindi 

Positional trading kya hai in Hindi – पोजीशनल ट्रेडिंग स्टॉक मार्केट में ट्रेडिंग करने की एक ऐसी रणनीति है या एक ऐसी ट्रेडिंग स्ट्रेटजी है जिसमें एक ट्रेडर किसी भी शेयर स्कोर बहुत लंबे समय तक होल्ड करके रखता है और यह समय एक महीना भी हो सकता है 2 दिन भी हो सकता है 1 साल भी हो सकता है यह उस ट्रेडर के क्षमता के हिसाब से और सबर पर निर्भर करता है

जैसे ही वह ट्रेडर मुनाफे की स्थिति में होता है तब उस शेयर को वह बेच देता हैदोस्तों पोजीशनल ट्रेडिंग में हम लोग ज्यादातर 1 साल तक किसी भी शेयर को होल्ड करके रख सकते हैंउसके बाद उसे बेचना ही होता है

 

Positional trading meaning in Hindi – Positional trading 

Positional trading meaning in Hindi  – किसी भी कंपनी के शेयर को एक लंबे समय तक होल्ड करके रखने पर स्टॉक प्राइस में जो एक बहुत लंबा मूवमेंट आता है उसका फायदा उठाकर जो प्रॉफिट कमाया जाता है उसे ही पोजीशनल ट्रेडिंग कहा जाता है

उदाहरण के लिए जैसे

जैसे मान लीजिए आज किसी भी कंपनी के शेयर की प्राइस ₹100 है और आप फंडामेंटल तथा टेक्निकल एनालिसिस करके यह मालूम कर लेते हैं कि यह 6 महीने में इसकी कीमत बढ़ने वाली है आप उसकी शेयर को खरीद कर रख लेते हैं तथा 6 महीने बाद जब उसकी कीमत 150 से ₹180 होती है तब आप उसे बेच देते हैं

 

इसे ही Positional trading कहा जाता है

 

Positional trading start  कैसे करें – How to start positional trading 

दोस्तों आपको भारतीय शेयर बाजार में पोजीशनल ट्रेडिंग करने के लिए सर्वप्रथम अपना डिमैट अकाउंट और ट्रेडिंग अकाउंट किसी भी एक ट्रेडिंग ब्रोकर के साथ मिलकर खुलवाना पड़ेगा उसके बाद आप अपने बैंक अकाउंट से ट्रेडिंग अकाउंट में पेमेंट ऐड करें तथा ट्रेडिंग करनी शुरू करें

 यदि आपका ट्रेडिंग में पहला एक्सपीरियंस है तो आप शुरुआत है बहुत ही कम पैसों से ट्रेनिंग करना शुरू करें और किसी अच्छे सलाहकार की देखरेख में ट्रेडिंग करें नहीं तो आप बड़ा घाटा खा कर बैठ सकते हो

दोस्तों पोजीशनल ट्रेडिंग अक्सर बड़ी-बड़ी कम मार्केट कैप  वाली कंपनियों के शेयर के साथ में किया जाता है और इन शेयरों से रिटर्न भी 25 से 30% का मिलता है क्योंकि यह लंबी परफॉर्मेंस देने वाली कंपनियों के शेयर होते हैं जो शेयर मार्केट में लंबे समय तक बने रहते हैं

Positional trading strategy ( रणनीति ) Hindi –  positional trading strategy

दोस्तों पोजीशनल ट्रेडिंग को कम समय का खेल नहीं है यह थोड़ा लंबा समय का खेल होता है इसमें टाइम राजा तो लगता है इसलिए आपको पूरी तैयारी के साथ में उतरना चाहिए उसके लिए कुछ पोजीशनल ट्रेडिंग स्ट्रेटजी इन हिंदी दी गई है

कंपनी के शेयर का Fundamental analysis  करें 

 

दोस्तों किसी भी कंपनी के शेयर को खरीदने से पहले उसे लंबे समय तक होल्डर सबसे पहले उस कंपनी के बारे में आपको जानकारी अर्थात फंडामेंटल एनालिसिस अवश्य करना चाहिए और उसके बारे में पर्याप्त जानकारी निकालनी चाहिए कि कंपनी क्या काम करती है क्या बिजनेस है कौन सा बिजनेस है तथा इनका बिजनेस मॉडल क्या है

 

यह कंपनी फायदे में है या घाटे में है तथा भविष्य में इसका परफॉर्मेंस कैसा रहेगा मार्केट में इसका कितना डिमांड और सप्लाई है इत्यादि

कंपनी के शेयर का Technical analysis  करें 

 

दोस्तों किसी भी कंपनी के शेयर को लंबे समय तक होल्डर से पहले उसके बारे में थोड़ा टेक्निकल अवश्य करना चाहिए टेक्निकल एनालिसिस का मतलब होता है कि उसके मूल्य में होने वाले उतार-चढ़ाव होता उसके पैटर्न ग्राफ को देखकर आप थोड़ा आकलन लगाएं इससे आपको यह मालूम पड़ जाता है कि शेयर डाउनट्रेंड में है या अब ट्रेंड में है जिससे आपको इन्वेस्टमेंट करने में आसानी होती है

 

Best positional trading tips in Hindi – Best position trading Tips

 

Best tips for positional trading in Hindi – यदि आपकी पोजीशनल ट्रेडिंग करना चाहते हो या करने इच्छा रखते हो तो यहां पर कुछ को लिखना ट्रेडिंग किस दी गई है उनका उपयोग आप अपनी पोजीशनल ट्रेडिंग करते समय प्रयोग कर सकते हो

 

1.      Positional trading करने से पहले Fundamental analysis  – Best positional trading tips in Hindi 

दोस्तों यदि आप पोजीशनल ट्रेडिंग करने की सोच रहे हो तो किसी भी शेयर में इन्वेस्टमेंट करने से पहले उसके फंडामेंटल एनालिसिस अवश्य करें क्योंकि इससे आपको थोड़ा बहुत आकलन हो जाता है जिससे आप उस एयर को लंबे समय तक होल्ड रख सकते हो और अच्छा मुनाफा कमा सकते हैं

 

2.      Market Trend  के साथ में Trade  करें – Best position trading tips

दोस्तों यदि आप पोजीशनल ट्रेडिंग करने जा रहे हो तो आप मार्केट ट्रेंड के हिसाब से ही ट्रेड करें क्योंकि अक्सर नए नए स्टेटस मार्केट के विपरीत ट्रेंड में ट्रेड करते हैं इससे उन्हें अच्छा सा घाटा लग जाता है

मार्केट को अच्छी तरह देखें मार्केट जितना हाई जाता है उतना हाई जाने दे तो था जितना नीचे आता है उतना ही नीचे जाने दे उसके बाद अपनी पोजीशन लेकर ट्रेडिंग शुरू करें

 


  1. Penny stocks पर अवश्य ध्यान लगाएं –  Best position trading Tips

दोस्तों शेयर मार्केट में हर दिन हजारों नहीं नहीं शेयर आते हैं और उनमें ट्रेड किया जाता है दोस्तों आपको पेनी स्टॉक्स को नहीं छोड़ना चाहिए उनके ऊपर भी आपको बराबर नजर रखनी चाहिए ऐसे स्टफ्स पर नजर रखें जो कि भविष्य में अच्छा परफॉर्मेंस कर सके उसमें आप अच्छा पैसा लगाकर लंबे समय तक होल्ड कर सकते हैं

 

क्योंकि अक्सर छोटे-छोटे पेनी स्टॉक्स भविष्य में अच्छा परफॉर्मेंस करके ब्लू चिप शेयर्स बन जाते हैं यह मार्केट में परफॉर्मेंस के ऊपर तय होता है

 

4.      Positional trading  इंडिकेटर का Use  करें – Best positional trading tips Hindi 

यदि आप किसी प्रकार की ट्रेडिंग करते हो चाहे वह पोजीशनल ट्रेडिंग हो जाए इंट्राडे ट्रेडिंग हो जाए वह ऑप्शन ट्रेडिंग हो आपको पोजीशनल ट्रेडिंग या ट्रेडिंग इंडिकेटर्स का प्रयोग करना अवश्य आना चाहिए

यदि आप ट्रेडिंग इंडिकेटर के बिना ट्रेड करते हो तो वहां पर रिटर्न के चांस थोड़े कम होते हैं क्योंकि ट्रेडिंग इंडिकेटर आपको समय-समय पर नोटिफिकेशन देते रहते हैं जिससे आप अपने ट्रेड पूरी कर पाए

 

Conclusion

 

दोस्तों अभी तक आपने जाना की Positional trading kya hai in Hindi , Positional trading कैसे करें ,Positional trading benefits in Hindi ,Positional trading strategy and tips in Hindi

आशा करता हूं कि आपको यह लेख अच्छा लगा होगा और आपको से पर्याप्त जानकारी मिली होगी  इसलिए कि को शुरू से लेकर अंत तक पढ़ने के लिए धन्यवाद

About Dhirendra singh

मेरा नाम Dhirendra Singh Bisht है और मैं इस Technet ME फाउंडर और owner हूं , दोस्तों मैंने अभी अपनी डिग्री पूरी की है और मुझे लोगों की समस्याओं का हल करना अच्छा लगता है और मुझे लोगों को नई नई चीजें सिखाने में और Technology Business Banking ,Marketing के बारे में अच्छी जानकारी है

Leave a Comment