Nifty क्या है? Nifty और Sensex में अंतर | Nifty में invest कैसे करें – Nifty in hindi

Nifty क्या है? Nifty और Sensex में अंतर | Nifty में invest कैसे करें – Nifty in hindi, what is Nifty in Indian share market ,Nifty full form in Hindi ,Nifty 50 kya hai ,Difference between Nifty and Sensex which is better to investment

दोस्तों आप लोगों ने हमेशा ही जब भी आप किसी न्यूज़ चैनल के  बिजनेस वाले एपिसोड को देखते हो तब  आपने Nifty के बारे में   जरूर सुना होगा जब भी आप  न्यूज़ पेपर पढ़ते होंगे तो उसके बिजनेस वाले कॉलम में भी Nifty  के बारे में आता है तब आपके मन में सवाल उठते होंगे किNifty kya hai in Hindi और Nifty  का निर्धारण कैसे किया जाता है और यह हमारे शेयर बाजार  के बारे में किस प्रकार की जानकारी देता है

जब भी आप किसी शेयर मार्केट में इन्वेस्टमेंट करने के लिए सोचते हो तब यह सब Nifty  आपको भी जरूर असमंजस में डाल देता होगा कि यह Nifty  क्या है   दोस्तों आज आप जाने वाले हो कि Nifty  क्या है और Nifty  के बारे में  आपकी समस्या आज दूर हो जाएगी वैसे भी आपको Stock market  और share market  के बारे में जानना सामान्य है  और यह आपको भी अवश्य जानना चाहिए कि Sensex kya hai  और Nifty kya hai निफ्टी के ऊपर नीचे होने से भारतीय अर्थव्यवस्था पर या भारतीय वित्तीय बाजार पर क्या प्रभाव पड़ता है  चलिए जानते हैं

Nifty क्या है? Nifty और Sensex में अंतर

Nifty kya hai – Nifty क्या है?

Nifty kya hai in Hindi – Nifty मुख्य रूप से   भारतीय शेयर मार्केट के सबसे बड़े दो स्टॉक एक्सचेंज में से एक स्टॉक एक्सचेंज NSE (National Stock Exchange ) का  Benchmark index  है Nifty के माध्यम से हम NSE   के अंदर  लिस्टेड कंपनियों के शेयर के भाव में होने वाली बढ़ोतरी और कमी को देख सकते हैं या जा सकते हैं

Nifty  एक 50  कंपनियों का ग्रुप होने के कारण   इसे Nifty-50  भी कहते हैं और यह हमारी भारतीय अर्थव्यवस्था में एक महत्वपूर्ण भूमिका अदा करता है आसान शब्दों में कहा जाए तो Nifty  एक स्टॉक इंडेक्स है Nifty  के अंदर   50 कंपनी से ज्यादा कंपनियों को लिस्ट नहीं कर सकते हैं 

Nifty नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का एक महत्वपूर्ण सूचकांक है  जो कि  नेशनल स्टॉक एक्सचेंज में लिस्टेड शीर्ष 50 कंपनियों के ग्रुप को दर्शाता है और यह उन्हीं 50 कंपनियों के बारे में आम ट्रेडर को जानकारी देता है और मार्केट में होने वाले उतार-चढ़ाव को दर्शाता है  Nifty भारतीय शेयर मार्केट में होने वाले उतार-चढ़ाव और मंदी के बारे में जानकारी देता है और उन 50 कंपनियों के बारे में भी बहुत जानकारी देता है कि उनकी मार्केट में वैल्यू क्या है


Nifty full form  in Hindi  :  Full form of nifty in Hindi 

 

Nifty की  full form है  “National Stock Exchange of Nifty-50” इसमें NSE  की शीर्ष 50 कंपनियां होती हैं जो कि भारतीय शेयर मार्केट में अच्छा प्रदर्शन कर रही होती हैं और अच्छा मुनाफा कमा रही हो

NSE के अंदर Nifty की शुरुआत  कब और कहां की गई थी

NSE के अंदर Nifty  की स्थापना 1994 में  की गई थी लेकिन इस को वास्तविक रूप में लागू  सन 1995  में किया गया था NSE ने सन 1995 में  वीडियो  Screen   और  automatic trading system  के द्वारा ट्रेडिंग करना शुरू कर दिया था  इसके फल स्वरुप  भारतीय शेयर मार्केट में एक डिजिटल क्रांति आइए और लोग कागज कार्यवाही को छोड़कर डिजिटल रूप से ट्रेडिंग करने लगे NSE भारतीय शेयर मार्केट में  इंटरनेट के द्वारा ट्रेडिंग करने वाला पहला स्टॉक एक्सचेंज था

शेयर मार्केट में डिजिटल  क्रांति आने के बाद में Nifty  और Sensex  पर नजर रखना बहुत ही आसान हो गया  अब इनकी खबर कुछ ही मिनटों में trading Broker और  शेयर मार्केट   निवेशक के पास आ जाया करती थी इसके फलस्वरूप वह लोग दिन में बहुत ज्यादा ट्रेड करते थे और अच्छा मुनाफा कमाते थे

देश के  औद्योगिक क्षेत्र के प्रमुख 12 सेक्टर से  50 कंपनियों का Nifty  के लिए  किया गया था  इन कंपनियों को NSE  के अंदर पहले से ही List होना पड़ता है और बाजार में बहुत ही अच्छा परफॉर्मेंस करना पड़ता है हमें निफ्टी में निवेश करने के लिए ब्रोकर का चुनाव करना बहुत ही आवश्यक है बिना Broker  के हम निफ्टी में निवेश नहीं कर सकते हैं

 

Nifty का काम क्या है – Nifty work in Hindi 

Nifty का कार्य nse के द्वारा चयनित उन 50 शीर्ष कंपनियों पर नजर रखना होता है कि वह बाजार में कैसा प्रदर्शन कर रही है यदि मान लो बाजार में उनके प्रोडक्ट की डिमांड ज्यादा है तो ऐसे हालातों में कंपनी को बहुत ही ज्यादा फायदा होता है और उनके फायदे की वजह से  कंपनी के शेयरों   के भी भाव बढ़ते हैं फल स्वरुप निफ्टी में भी वृद्धि होती है या निफ्टी का भी अंक ऊपर चढ़ता है

ठीक इसी तरह यदि index  या चयनित  शीर्ष कंपनियां बाजार में अपना  प्रदर्शन सही नहीं करती है या उनके प्रोडक्ट की डिमांड मार्केट में बहुत ही कम है तब ऐसे में  उनको बहुत ही ज्यादा घाटा होता है इसी के चलते उनकी कंपनी  के शेयरों का दाम भी कम हो जाता है इसके चलते ही बाजार में मंदी आ सकती है ऐसे समय में हम Nifty  मैं भी गिरावट देख सकते हैं इसका भी अंक बहुत नीचे आ जाता है

Nifty और  indian अर्थव्यवस्था 

दोस्तों अब आप सोच रहे होंगे कि Nifty  और  भारतीय अर्थव्यवस्था में क्या संबंध है यह किस प्रकार एक दूसरे पर निर्भर होते हैं इसमें मैं आपको बताना चाहता हूं कि यह दोनों बहुत ही ज्यादा एक दूसरे पर निर्भर होते हैं और इनमें गहरा संबंध है

दोस्तों जैसा कि Nifty  का ऊपर जाना हमें बताता है कि यह कंपनी बहुत ही ज्यादा फायदे में है या कंपनी एक अच्छा मुनाफा कमा रही है अपना काम बहुत अच्छा कर रही है जितना ज्यादा भारतीय कंपनी  अच्छा  मुनाफा कमाएंगे और अपने बिजनेस को पूरे देश भर में तथा इंटरनेशनल बनाएंगी उतना ही वह कंपनी भारतीय सरकार को टैक्स देगी और भारत के बेरोजगार युवकों को रोजगार देगी तथा भारत के अर्थव्यवस्था को मजबूत करेगी

Nifty बाजार की चाल को दर्शाती है तथा बाजार के होने वाले उतार-चढ़ाव को भी बताती है यदि आपको शेयर बाजार के बारे में जानना है तो आपको Nifty  के बारे में अवश्य जान लेना चाहिए या पढ़ लेना चाहिए

 

Nifty कैसे  calculation  किया जाता है – Nifty calculation in Hindi 

Nifty का निर्माण कैसे किया जाता है या इसका कैलकुलेट कैसे किया जाता है इसका तात्पर्य है कि NSE के अंदर लिस्टेड उन 50 कंपनियों के शेयर के बारे में गणना करना होता है जबकि NSE  अर्थात नेशनल स्टॉक एक्सचेंज में 6000 से ऊपर कंपनियां लिस्टेड होती है लेकिन Nifty  के अंदर उनका चुनाव करने के लिए उनके बाजार परफॉर्मेंस को देखा जाता है कि इन्होंने पूरे साल में बाजार में कैसा प्रदर्शन किया है

इनका प्रोडक्ट बाजार में कितना बिक रहा है  और इन कंपनियों की बाजार वैल्यू क्या है NSE  लिस्टेड 50 कंपनियों का चुनाव किया जाता है और निफ्टी का गठन किया जाता है जिससे कि बाजार के चाल का अनुमान लगाया जा सके

Nifty के अंदर  उन चयनित  50 शीर्ष कंपनियों के शेयरों का ही खरीद-फरोख्त होता है Nifty मैं चयनित यह 50 कंपनियां देश के अलग-अलग औद्योगिक क्षेत्रों या सेक्टरों से चुनी जाती हैं इन 50 कंपनियों का मार्केट वैल्यू पूरे मार्केट का  60% होता है जब इन कंपनियों के शेयर ज्यादा खरीदे जाते हैं तब Nifty  ऊपर जाता है , जब मंदी आ जाती है तब Nifty  अपने स्थान पर रुक जाता है, फिर यह नीचे आने लगता है

Nifty का चुनाव करने के लिए बैंकिंग क्षेत्र के अर्थशास्त्री और देश के बड़े बड़े अर्थशास्त्री आते हैं और एक Index Committee का गठन करते हैं फिर Nifty  का चुनाव करते हैं

Nifty और Sensex में अंतर क्या है – Difference between Nifty and Sensex in Hindi

दोस्तों वैसे तो Sensex  और Nifty  दोनों ही  स्टॉक एक्सचेंज के इंडेक्स बेंच मार्क है मतलब Sensex  और Nifty  के कारण ही  इनके स्टॉक एक्सचेंज के प्रदर्शन के बारे में जानकारी मिलती है लेकिन फिर भी इन दोनों में काफी भिन्नता है हैं

जहां एक तरफ BSE  मुंबई स्टॉक एक्सचेंज में सिर्फ 30 कंपनियां का चुनाव करके Sensex  का गठन किया जाता है Sensex बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज से संबंध रखता है इसका मार्केट वैल्यू कम है इनकी कंपनियां देश की जानी मानी और बहुत अच्छी कंपनी है 

दूसरी तरफ NSE  नेशनल स्टॉक एक्सचेंज में  अर्थशास्त्रियों द्वारा 50 शीर्ष कंपनियों का चुनाव करके Nifty  का गठन किया जाता है Nifty नेशनल स्टॉक एक्सचेंज से संबंध रखता है इनका मार्केट वैल्यू बहुत ज्यादा है और इनकी कंपनियां मार्केट में बहुत अच्छा परफॉर्मेंस कर रही होती है

चाहे इन दोनों में कितना भी अंतर हो लेकिन इन दोनों का कार्य ही मार्केट में इनके स्टॉक एक्सचेंज के प्रदर्शन और शेयर बाजार के बारे में जानकारी देना होता है

 

 

Nifty के फायदे क्या है – Nifty benefits in Hindi 

दोस्तों Nifty में  सारे फायदे होते हैं  लेकिन आपको प्रमुख प्रमुख फायदे जान लेने चाहिए चलिए जानते हैं  Nifty के कारण  नेशनल स्टॉक एक्सचेंज  के प्रदर्शन के बारे में जानकारी मिल जाती है कि यह कैसा परफॉर्मेंस कर रहा है और कितने फायदे में रहा है

Nifty के कारण बाजार में होने वाले उतार-चढ़ाव और बाजार में आने वाली मंदी के बारे में आसानी से जानकारी मिल जाती है निवेशक Nifty  के द्वारा बाजार के बारे में सटीक अनुमान लगा सकते हैं

Nifty के द्वारा हमें देश की अर्थव्यवस्था के बारे में भी मालूम पड़ता है कि यदि Nifty  में  वृद्धि होती है तो हमारे बाजार में अच्छा निवेश आता है  जिसके कारण भारत की अर्थव्यवस्था मौजूद होती है

 

 

CONCLUSION 

 

दोस्तों अभी तक आपने जाना की Nifty kya hai in Hindi, what is Nifty in Indian share market ,Nifty Kya है और  यह Sensex से किस प्रकार  अलग है ,Nifty full form in Hindi ,Nifty 50 kya hai 

दोस्तों मैंने इस लेख के द्वारा आपको यह  जानकारी बांटने की कोशिश की है आशा करता हूं कि आपको निफ्टी के बारे में जानकारी मिल गई होगी और आपको समझ आ गया होगा कि निफ्टी क्या है  अतः आप से गुजारिश है कि आप इस पोस्ट को अपने दोस्तों में और रिश्तेदारों में शेयर करोगे ताकि उनको भी निफ्टी के बारे में समझ आ सके

About Dhirendra singh

मेरा नाम Dhirendra Singh Bisht है और मैं इस Technet ME फाउंडर और owner हूं , दोस्तों मैंने अभी अपनी डिग्री पूरी की है और मुझे लोगों की समस्याओं का हल करना अच्छा लगता है और मुझे लोगों को नई नई चीजें सिखाने में और Technology Business Banking ,Marketing के बारे में अच्छी जानकारी है

Leave a Comment