KYC क्या होती है ? KYC क्यों जरूरी है – KYC कैसे करें

KYC क्या होती है- KYC kya hoti hai in Hindi ,KYC kaise kare KYC meaning in Hindi ,KYC full form in Hindi ,  – दोस्तों जब भी हम कोई नया Bank में Bank account खुलवाते हैं या Paytm का Account open करवाते हैं तो आपके सामने KYC (KYC kya hoti hai )  संबंधित प्रॉब्लम या टेक्निकल इश्यू अवश्य आते होंगे कि अपनी KYC करवा ले इसके अलावा और कुछ अन्य सभी Financial system में KYC करवाना बहुत ही आवश्यक होता है जैसे Mutual Fund में इन्वेस्ट करते हो , बैंक अकाउंट खुलवाते हो , Demat account open करना ,जैसे इत्यादि काम  

दोस्तों यदि आप भी जानना चाहते हो कि KYC क्या होता है – What is KYC in Hindi (KYC kya hoti hai)  और KYC  कैसे करें ,  KYC full form in Hindi KYC meaning in Hindi ,बैंक में KYC कैसे करें Paytm में KYC कैसे करें 

इस लेख को शुरू से लेकर अंत तक अवश्य पढ़ें इसमें KYC क्या है और KYC कैसे करें के बारे में संपूर्ण जानकारी जानने वाले हैं चलिए जानते हैं 

KYC क्या होती है ? KYC क्यों जरूरी है - KYC कैसे करें

KYC क्या होती है – What is KYC in Hindi

KYC kya hoti hai in Hindi – KYC  का हिंदी मतलब होता है कि अपने ग्राहकों को जानना अथवा हम कह सकते हैं कि KYC  एक प्रक्रिया होती है जिसके द्वारा कोई भी कंपनी हमारे बारे में विस्तृत रूप से जानकारी इकट्ठा करती है 

केवाईसी एक ऐसी प्रक्रिया है जिसे रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने कस्टमर ओं की आईडेंटिटी वेरीफिकेशन के लिए शुरू किया था इससे ग्राहकों के ऊपर बैंकों का भरोसा थोड़ा बढ़ जाता है केवाईसी के लिए आपको अपनी फोटो आधार कार्ड और पैन कार्ड जैसी जरूरी डॉक्यूमेंट लेकर आने होते हैं और आप अपनी केवाईसी किसी भी बैंक , या वित्तीय कंपनी में करवा सकते हैं 

आज के समय पर आप कुछ भी  सुविधा लेते हैं जैसे पेटीएम की सुविधा फोन पर की सुविधा या जब भी आप सिम लेते हैं या किसी भी बैंक  के अंदर अपना अकाउंट ओपन करवाते हैं उस समय आपको केवाईसी की सख्त आवश्यकता पड़ती है 

 

KYC meaning in Hindi – KYC meaning

KYC meaning – KYC meaning in Hindi – दोस्तों KYC  का Hindi meaning  अर्थात केवाईसी का हिंदी मतलब होता है कि “ अपने ग्राहकों को जानना ” जिसमें 

  • K = Know 
  • Y = Your 
  • C = Customer 

आज के समय पर किसी भी वित्तीय सिस्टम में जैसे बैंकिंग फाइनेंस के अंदर अपने कस्टमर की केवाईसी बहुत ही अहम भूमिका अदा करती है 

 

KYC full form in Hindi  – KYC full form

KYC full form – KYC full form in Hindi  – KYC का  full form होता है Know your customer ,जिस का हिंदी में मतलब होता है कि अपने ग्राहकों को जाने ना या अपने ग्राहकों की पहचान करना

आज के समय पर केवाईसी बहुत ही महत्वपूर्ण हो चुकी है क्योंकि ज्यादातर बैंक में आज केवाईसी करवाया जाता है और सभी  गैर वित्तीय कंपनियां भी किसी की डिमांड या मांग करती है 

 

KYC क्यों जरूरी है  – Importance of KYC in Hindi

Importance of KYC in Hindi – दोस्तों आज के समय केवाईसी की हर जगह डिमांड हो चुकी है जैसे नया बैंक खाता खोलना हो , या नया डिमैट अकाउंट ओपन करना हो यह आपको कहीं निवेश करना हो हर जगह केवाईसी की मांग की जाती है 

असल में केवाईसी करने का असली उद्देश्य होता है कि केवाईसी करने के पश्चात बैंक के पास में या कंपनी के पास में कस्टमर के पर्याप्त डिटेल्स जैसे नाम नंबर और उनका एड्रेस और उनकी असली हस्ताक्षर मिल जाते हैं जैसे नकली व्यक्ति और असली में फर्क किया जा सकता है 

इससे बैंक के साथ में होने वाले धोखाधड़ी और फ्रॉड को रोका जा सकता है और कम किया जा सकता है 

 

 

KYC documents क्या होते हैं – What is KYC documents in Hindi 

KYC documents in Hindi  – दोस्तों आप अपनी जानकारी किसी भी कंपनियां वित्तीय संस्थान को देने के लिए आप अपने महत्वपूर्ण दस्तावेज जैसे आधार कार्ड और पैन कार्ड जैसी महत्वपूर्ण दस्तावेज को लेकर जा सकते हो इसके अलावा आपके पास में और भी दस्तावेज होते हैं ने KYC documents in Hindi   कहते हैं 

  • Aadhar card 
  • PAN card 
  • Driving licence 
  • Voter ID card 
  • Ration card 
  • Passport 

 

KYC कितने प्रकार की होती है – Types of KYC in Hindi 

Types of KYC in Hindi – दोस्तों केवाईसी टेक्निकल रूप से दो प्रकार की होती है जिसमें आपको अपने केवाईसी डॉक्यूमेंट जैसे आधार कार्ड पैन कार्ड ड्राइविंग लाइसेंस लेकर जाने होते हैं और अपनी केवाईसी करवानी होती है 

 

E-kyc – E KYC kya hai 

E KYC kya hai – ईकेवाईसी एक ऑनलाइन प्रक्रिया होती है जिसमें आपको अपने जरूरी दस्तावेज जैसे आधार कार्ड के नंबर लगाने होते हैं और आप अंगूठा लगाकर के अपने हस्ताक्षर को वेरीफाई करवाते हैं ईकेवाईसी बहुत ही महत्वपूर्ण है और बहुत ही फास्ट हो जाती है

 ईकेवाईसी के द्वारा कस्टमर वेरिफिकेशन बहुत आसानी से हो जाता है और कागज वेरिफिकेशन भी हो जाते हैं 

 

Offline KYC – Offline KYC kya hai 

Offline KYC in Hindi – दोस्तों ऑफलाइन केवाईसी के अंदर आपको अपने जरूरी दस्तावेज जैसे पेन का अंदर कल को लेकर केवाईसी सेंटर जाना होता है और वहां पर अपने दस्तावेजों को वेरिफिकेशन कराना होता है उनकी फोटो कॉपियां फार्म में लगा करके सबमिट करनी होती है यह थोड़ी लंबी प्रक्रिया हो जाती है और यह ईकेवाईसी की तुलना में थोड़ा समय लेती है 

 

KYC कैसे करें – How to do KYC 

KYC कैसे करें – दोस्तों केवाईसी करने की अलग-अलग प्रक्रिया होती है यदि आप ऑनलाइन केवाईसी करवाना चाहते हो अर्थात ईकेवाईसी करवाना चाहते हो तो आपको अपने डॉक्यूमेंट से आधार कार्ड और पैन कार्ड लेकर सेंटर जाना है वहां पर अपने आधार कार्ड के नंबर लगाने हैं और अपने अंगूठे के द्वारा उसे वेरीफाई करके आना है यह बहुत ही फास्ट और आशंका है आजकल ज्यादातर बैंक ईकेवाईसी को ही प्राथमिकता देते हैं आसानी से अकाउंट खोल देते हैं 

दोस्तों यदि आपके पास में ही केवाईसी सेंटर नहीं है तो आप अपने जरूरी दस्तावेज या केवाईसी डॉक्युमेंट्स लेकर पास के किसी बैंक में या ब्रांच में जा सकते हो जहां पर आप अपना अकाउंट ओपन करना चाहते हो या ओपन किया हुआ है

वहां पर जाकर डेस्क इसे केवाईसी फार्म ले लें और उसमें अपने जरूरी दस्तावेज ऐसे आधार कार्ड की फोटो कॉपी पैन कार्ड की फोटो कॉपी दो पासपोर्ट साइज फोटो और अंत में अपने हस्ताक्षर करके डेस्क पर जमा कर दें यह लगभग 3 से 4 दिन में आप की केवाईसी अपडेट कर दी जाती है आजकल ज्यादातर बैंक में ऑनलाइन केवाईसी सिस्टम को अपना रखा है आपकी आवाज ही बहुत ही जल्दी कर दी जाती है 

 

KYC ke fayde kya hai  – Benefits of KYC in Hindi 

KYC ke fayde – Benefits of KYC in Hindi – दोस्तों किसी भी कंपनी में अपनी केवाईसी करवाने के अलग ही फायदे होते हैं जैसे आप पेटीएम में केवाईसी करवाते हैं तो आपका अकाउंट खुल जाता है और आप लेनदेन कर पाते हो बैंक में केवाईसी करवाने पर आपका बैंक अकाउंट खुल जाता है उसी प्रकार इसके कुछ अन्य फायदे भी होते हैं चलिए जानते हैं 

  • केवाईसी के द्वारा कंपनी और ग्राहक के बीच में पहचान सत्यापित होती है 
  • केवाईसी के द्वारा कंपनी के पास में ग्राहक की पर्याप्त जानकारी पहुंच जाती है 
  • केवाईसी के द्वारा कोई भी वित्तीय कंपनी में होने वाले फ्रॉड को रोका जा सकता है
  •  केवाईसी के द्वारा बड़ी आसानी से कोई भी व्यक्ति अपने अकाउंट खोल सकता है
  •  केवाईसी के द्वारा बैंकिंग सेक्टर में होने वाले मनी लॉन्ड्रिंग को रोका जा सकता है
  •  केवाईसी के द्वारा किसी भी संदिग्ध कस्टमर की हरकतों पर निगरानी रखी जा सकती है 

 

Conclusion (निष्कर्ष )

दोस्तों इस लेख को शुरू से लेकर अंत तक पढ़ने के लिए धन्यवाद इस लेख में आपने जाना कि कि KYC क्या होता है – What is KYC in Hindi (KYC Kya Hota Hai)  और KYC  कैसे करें ,  KYC full form in Hindi KYC meaning in Hindi ,बैंक में KYC कैसे करें  

आशा करता हूं कि आपको यह लेख अच्छा लगा होगा और इससे आपको पर्याप्त जानकारी मिली होगी दोस्तों इस लिए को अपने दोस्तों व्हाट्सएप ग्रुप और फेसबुक पर अवश्य शेयर करें जिससे उनको भी इस महत्वपूर्ण जानकारी की प्राप्ति हो 

About Dhirendra singh

मेरा नाम Dhirendra Singh Bisht है और मैं इस Technet ME फाउंडर और owner हूं , दोस्तों मैंने अभी अपनी डिग्री पूरी की है और मुझे लोगों की समस्याओं का हल करना अच्छा लगता है और मुझे लोगों को नई नई चीजें सिखाने में और Technology Business Banking ,Marketing के बारे में अच्छी जानकारी है

Leave a Comment