Investment kya hai ? investment के प्रकार | investment कैसे करें

Investment kya hai In Hindi, investment kaise kare  in Hindi, investment meaning in Hindi – दोस्तों जब भी हम किसी भी बड़े बड़े अमीर व्यक्तियों की बातें करते हैं उस समय उनके द्वारा किए गए इन्वेस्टमेंट, और उनके पास रखे गए विभिन्न कंपनियों के शेयर के बारे में ध्यान अवश्य आता है हम भी सुनते हैं कि उन्होंने बहुत ही कम उम्र से (Investment In Hindi)  चालू कर दी थी जिसके कारण उनको आज यह बहुत ही हाई रिटर्न मिला है

दोस्तों एक मध्यमवर्गीय परिवार का व्यक्ति पूरी जिंदगी काम करते-करते गुजार देता है और बचत करता रहता है जिससे कि वह भविष्य में अपना भविष्य शिक्षित कर सके इसके लिए वह अपना पैसा एलआईसी, बैंक एफडी और अन्य प्लान में लगाता है जिसके द्वारा उसे हाई रिटर्न मिल सके

 लेकिन कई बार उसका पैसा कुछ खराब Plans  में फंस जाता है और उन्हीं को पाने के लिए वह बहुत ज्यादा तकलीफ में आ जाता है

दोस्तों यदि आप भी (Investment In Hindi)   के बारे में जानना चाहते हो तो आप एकदम सही जगह आए हो इस लेख में आप  जानने वाले हो कि, Investment  क्या होती है,  Investment  कितने प्रकार की होती है,  अपना Paisa investment  कैसे और कहां करें,  Investment  और  shaving में क्या अंतर है  Investment  की Important   क्या है  Investment  की शुरुआत कब करें

चलिए जानते हैं Investment  क्या है (Investment In Hindi)   कैसे करें इन्वेस्टमेंट कितने प्रकार की होती है

Investment kya hai  investment के प्रकार  investment कैसे करें  In Hindi

विषय सूची

 Investment क्या होती है  –  What is investment in Hindi

Investment  क्या होती है – दोस्तों Investment  एक प्रकार  का निवेश होता है जो कि हम भविष्य में अपने रुपयों के द्वारा फायदा प्राप्त करने के लिए किसी एक या अन्य किसी भौतिक वस्तुओं में या धातुओं में या किसी सरकारी योजना में अपना पैसा लगाते हैं हम अक्सर इन्वेस्टमेंट उन्हीं वस्तुओं या योजनाओं में करते हैं जिनके द्वारा भविष्य में पैसा आने की उम्मीद होती है

दूसरी आसान शब्दों में समझा जाए तो Investment  एक ऐसी प्रक्रिया है जिसमें हम अपने बचत के पैसों को काम पर लगा देते हैं जिससे कि हमें समय के साथ   कुछ फायदा होता रहे

जैसे कि हम अपने पैसों से वर्तमान समय में रियल स्टेट या जमीन, या कोई सोना खरीदते हैं जिसका उपयोग वर्तमान में नहीं है लेकिन भविष्य में इनकी कीमत बढ़ने से हमारे रुपयों की कीमत भी बढ़ सकती है और हमें एक अच्छा फायदा हो सकता है

दोस्तों लोग आज (Investment In Hindi)   की तरफ बहुत ही ज्यादा ध्यान दे रहे हैं जिससे कि भविष्य में उनका पैसा सिक्योर हो सके क्योंकि बैंक में इतना ज्यादा ब्याज नहीं मिलता है  जितना कि किसी बिजनेस प्लान या बांड में अपना पैसा लगा कर के हम पैसा कमा सकते हैं

 

Investment important क्यों है – Importance of investment in Hindi

दोस्तों आज के इस प्रतियोगिता के जमाने में हमारे देश की और संपूर्ण विश्व की आबादी बहुत ही बढ़ती जा रही है ऐसे में हमारे देश में जीवन यापन के साधनों में बहुत ही कमी आ चुकी है रोजगार उपलब्ध नहीं हो पा रहा है जीवन जीने के लिए बहुत ही मशक्कत करनी पड़ती है था

इससे राहत पाने के लिए हमें अपने पैसे को इन्वेस्टमेंट में अवश्य लगाना चाहिए जिससे कि वहां से कुछ थोड़ा-थोड़ा रिटर्न आता रहे और समय-समय पर हमारी मदद होती रहे

सीधे शब्दों में कहा जाए तो आज  के इस कंपटीशन वाले जमाने में आपके द्वारा कमाए गए रुपयों को इन्वेस्टमेंट में लगाना बहुत ही आवश्यक है जिससे कि हमें भविष्य में हमारा पैसा कुछ हाई रिटर्न लाकर दे और हमें उसे फायदा हो

 अक्सर हम लोग हमारी सेविंग  बचत राशि को हमारी इन्वेस्टमेंट कहते हैं लेकिन ऐसा नहीं होता है आपका बचत राशि अलग होता है और इन्वेस्टमेंट अलग होता है

 

Investment और  savings  में अंतर – Difference between investment and savings In Hindi

दोस्तों आज के इस महंगे जमाने में लोग अपनी बचत की राशि को इकट्ठा करने में ही जिंदगी गुजार देते हैं ऐसे में वह इन्वेस्टमेंट के बारे में नहीं सोच पाते हैं लेकिन  कई लोग अपनी शेविंग्स को ही (Investment In Hindi)  समझ बैठते हैं लेकिन ऐसा नहीं होता है

  1. दोस्तों जिस रुपयों को हम रोजाना कमाते हैं और भविष्य में जरूरी समय में उपयोग करने के लिए बैंक खाते में रखते हैं उसे हम शेविंग्स कहते हैं अर्थात बचत कहते हैं
  2. जबकि उसी बचत राशि में से कुछ पैसा को निकालकर हम शेयर मार्केट, गोल्ड, और रियल स्टेट में लगाते हैं जिसके भविष्य में दाम बढ़ने पर  हमें अच्छा रिटर्न मिलता है इसे इन्वेस्टमेंट कहते हैं
  3. अक्सर हम हमारे रुपयों की बचत या शेविंग से इसलिए करते हैं ताकि भविष्य में हमें कोई घर लेना हो गाड़ी लेनी हो या सपनों को पूरा करना हो ,तथा रिटायरमेंट प्लान करना हो
  4. जबकि हम इन्वेस्टमेंट करते समय इनके बारे में नहीं सोच पाते हैं  सिर्फ हम इन्वेस्टमेंट कर देते हैं इसमें हमें हाई रिटर्न  प्राप्त करने के लिए काफी समय लग सकता है कभी-कभी हमारा पैसा कम भी हो सकता है
  5. दोस्तों हमारे दैनिक जीवन में कमाए गए रुपयों की बचत करने  से हमारी सिर्फ जरूरत ही पूर्ति होती है और हमें केवल जीवन यापन तक ही सीमित रहना पड़ता है
  6. जबकि किसी भी बड़े कंपनियों या बड़ी-बड़ी बॉन्डों में हमारे छोटे से इन्वेस्टमेंट के कारण भी हम लाखों रुपए का रिटर्न पा सकते हैं हमारे सपनों को पूरा कर सकते हैं

 

Investment  कितने प्रकार के होते हैं – Types of investment in Hindi

Investment के प्रकार – दोस्तों व्यक्ति की आवश्यकता हो और जरूरत की चीजों को ध्यान रखते हुए तथा भौतिक आर्थिक एवं इंडिविजुअल क्षेत्र और जरूरत को ध्यान में रखते हुए (Investment In Hindi)  के मुख्य प्रकार निम्नलिखित दिए गए हैं

1. Planned  investment ( नियोजित इन्वेस्टमेंट)

दोस्तों जब हम अपने पैसे को किसी भी आशिक क्षेत्र में जैसे रियल स्टेट इंफ्रास्ट्रक्चर और बड़ी-बड़ी कंपनियों के शेयर, कंपनी के अंदर  सुनियोजित ढंग से इन्वेस्टमेंट करते हैं या अपना पैसा लगाते हैं उसे planned  इन्वेस्टमेंट कहा जाता है

इसमें हम किसी भी क्षेत्र में चाहे वह आर्थिक क्षेत्र हो या किसी क्षेत्र हो उसमें हम बिना प्लान के या योजना के पैसे नहीं लगा सकते हैं पैसे को इन्वेस्टमेंट करने के लिए हमें एक अच्छे योजना की आवश्यकता होती है

2. Unplanned investment (अनियोजित इन्वेस्टमेंट)

दोस्तों जैसा कि इसके नाम से ही स्पष्ट होता है कि हमें इन्वेस्ट करने के लिए किसी प्रकार की योजना की आवश्यकता नहीं होती है या कोई विशेष लक्ष्य नहीं होता है कि हमें इस इन्वेस्टमेंट के बाद में यह करना है

 इसमें कुछ भी हो सकता है आप अपना इन्वेस्टमेंट कितने दिन के लिए भी कर सकते हो तथा इसमें आप कभी भी  बाहर आ सकते हो

3. Total investment  (कुल इन्वेस्टमेंट )

दोस्तों जब भी हम किसी एक नया बिजनेस खड़ा करना चाहते हैं या इन्वेस्टमेंट करने के लिए हम सारे रुपयों को या पैसे को एक साथ लगा देते हैं तो उसे टोटल इन्वेस्टमेंट कहते हैं

जैसे कि आप एक कारखाना लगा रहे हो तो उसमें आप अपना सारा पैसा इन्वेस्टमेंट कर देते हो  जिससे कि आपको एक अच्छा रिटर्न मिल सके और आपकी उन्नति हो सके

 

4. Net investment (शुद्ध इन्वेस्टमेंट)

दोस्तों नेट इन्वेस्टमेंट यदि 1 साल के अंदर आपके टोटल तुझी से इन्वेस्ट की गई राशि को हटा दिया जाए तो बचने वाली इन्वेस्टमेंट को नेट इन्वेस्टमेंट कहते हैं

एक मध्यमवर्गीय परिवार हमेशा ही इन्वेस्टमेंट को एक जुए की नजर में देखता है जबकि ऐसा नहीं होता है यह  सुरक्षित होता है और आपकी मर्जी के ऊपर निर्भर करता है

  1. Actual investment (वास्तविक इन्वेस्टमेंट)

दोस्तों एक्चुअल इन्वेस्टमेंट अर्थात वास्तविक इन्वेस्टमेंट एक ऐसा इन्वेस्टमेंट होता है जिसे हम सीधे ही औद्योगिक क्षेत्र में, सर्जन के लिए करते हैं, जैसे रेलवे में कारखाना लगाने में करते हैं इसे एक्चुअल इन्वेस्टमेंट कहा जाता है

 ऐसे इन्वेस्टमेंट के द्वारा हम रोजगार के अवसर और लोगों को  सुख सुविधा मुहैया करवाते हैं या प्रदान कराते हैं

 

6. Financial investment (आर्थिक इन्वेस्टमेंट)

दोस्तों हमारे द्वारा आसपास के आर्थिक क्षेत्रों में क्रियाविधि करने के लिए की गई इन्वेस्टमेंट को फाइनेंशियल इन्वेस्टमेंट कहते हैं आर्थिक इन्वेस्टमेंट आ जाता है इसमें हम सीधे ही रुके हो को किसी भी क्षेत्र में इन्वेस्ट करते हैं जैसे  शेयर मार्केट, कंपनी के बॉन्ड ,किसी जमीन ,सोने के अंदर इन्वेस्टमेंट

इसमें हमें हाई रिटर्न मिलने की बहुत ही अधिक चांस होते हैं इसमें हमारा पैसा डूब भी सकता है

7. Induced investment (इंड्यूसेड इन्वेस्टमेंट)

 Induced investment (इंड्यूसेड इन्वेस्टमेंट)  – यह एक प्रकार का इन्वेस्टमेंट होता है कि  आपकी आय के अनुसार बदलता रहता है इसमें आप अपनी आय के हिसाब से इन्वेस्टमेंट कर सकते हो यदि कमाए होती है तो आप इसमें कम इन्वेस्टमेंट करें तथा ज्यादा होती है तो आप उसमें ज्यादा कर सकते हो

 

8. Autonomous investment (स्वायत्त इन्वेस्टमेंट)

 दोस्तों ऑटोनॉमस इन्वेस्टमेंट अर्थात स्वायत्त इन्वेस्टमेंट एक प्रकार का ऐसा इन्वेस्टमेंट होता है जो कि अपने आप में आजाद होता है इस इन्वेस्टमेंट के ऊपर आपकी आय का कोई प्रभाव नहीं पड़ता है इसमें इन्वेस्टमेंट लगातार होती रहती है चाहे आपकी आए कुछ भी हो यह आपके आय के हिसाब से नहीं बदलता है

 

Investment की शुरुआत कब करें – How to start investment in Hindi

दोस्तों इन्वेस्टमेंट करने की कोई भी उम्र नहीं होती है ज्यादातर आप किसी भी बिजनेसमैन को देख लेना जिसने इन्वेस्टमेंट से पैसा कमाया हुआ हो वह बहुत ही कम उम्र से लग जाता है पैसा इन्वेस्ट करने

 ज्यादातर वारेन बुफेट राकेश झुनझुनवाला और अन्य बिजनेसमैन जिसने इन्वेस्टमेंट से पैसा कमाया हो वह बहुत ही कम उम्र से लग गया था लेकिन हमारे देश  का एक बहुत बड़ा वर्ग इसके बारे में नहीं सोच पाता है जब वह इन्वेस्टमेंट के बारे में सोचता है तो वह सोचता है कि वह लेट हो गया है दोस्तों ऐसा नहीं है

दोस्तों चाहे आप 30 साल के हो 35 साल के हो या 45 साल के हो  आप को  कभी भी जब आपको इन्वेस्टमेंट के बारे में पता चले तभी आप इन्वेस्टमेंट कर सकते हो इन्वेस्टमेंट से पहले इन्वेस्टमेंट की अच्छी तरह से जानकारी ले लेनी चाहिए

 

Investment कैसे करें – How to do investment in Hindi

इन्वेस्टमेंट कैसे करें  – दोस्तों इस प्रश्न के बारे में की इन्वेस्टमेंट कैसे करें इसके अलग-अलग रास्ते हो सकते हैं यदि आप शेयर मार्केट में इन्वेस्टमेंट करना चाहते हो तो आप शेयर मार्केट ब्रोकर के पास जा सकते हो जिसमें  मार्केट में कई सारे शेयर मार्केट के ब्रोकर होते हैं जैसे, शेयर खान, ग्रो ,जीरोधा इत्यादि

यदि आप अपने पैसे की इन्वेस्टमेंट बैंक एफडी में करना चाहते हो तो आप किसी भी बड़े बड़े बैंक में जा सकते हो जैसे एसबीआई, आईसीआईसीआई बैंक, पंजाब नेशनल बैंक, एचडीएफसी बैंक, इत्यादि बैंक में जाकर आप अपने पैसों की FD करवा सकते हो

दोस्तों आपको अलग-अलग क्षेत्र में इन्वेस्टमेंट करने के लिए एक माध्यम की आवश्यकता होती है उस माध्यम के द्वारा ही आप इन्वेस्टमेंट कर सकते हैं आप मार्केट में रहने वाले छोटे-मोटे एजेंटों के चक्कर में ना पड़ें वह आपसे पैसा ऐठ लेते हैं और आपको चक्कर में डाले रखते हैं

 

Time के अनुसार  Investment कितने प्रकार के होते हैं

दोस्तों जो हम इन्वेस्टमेंट करते हैं तो उसमें टाइम एक बहुत ही महत्वपूर्ण रोल अदा करता है क्योंकि हमें समय का कुछ पता नहीं होता है कि कितने समय तक हमें इन्वेस्टमेंट करना होता है अब हम जाने वाले हैं कि टाइम के अनुसार इन्वेस्टमेंट कितने प्रकार के होते हैं

  •       अल्पकालिक इन्वेस्टमेंट (Short time investment )
  •     मध्यमकालिक इन्वेस्टमेंट(Medium time investment )
  •     दीर्घकालिक इन्वेस्टमेंट( Long time investment )

 

1. अल्पकालिक इन्वेस्टमेंट (Short time investment ) क्या होता है

 दोस्तों जब हम किसी भी इन्वेस्टमेंट को 1 साल से कम के लिए करते हैं उसे अल्पकालिक इन्वेस्टमेंट अर्थात शो टाइम इन्वेस्टमेंट कहा जाता है इसमें हम अपने पैसे को किसी ऐसे क्षेत्र में लगाते हैं जहां से कम समय में अधिक रिटर्न आ सके

1 साल में हमें अच्छा रिटर्न मिल सकता है हमें सिर्फ अच्छे लोगों की तलाश में रहना चाहिए जहां पर हम इन्वेस्टमेंट कर सके

जैसे आप शेयर मार्केट एफडी में इन्वेस्ट कर सकते हो जिससे कि महीने में इनकी कीमत बढ़ सकती है जिसके कारण आपसे मार्केट से अच्छा पैसा कमा सकते हो

 

अल्पकालिक इन्वेस्टमेंट (Short time investment )  कहां करें

  •       शेयर मार्केट
  •     बैंक एफडी
  •     सोना चांदी
  •     सीजनल प्रोडक्ट

 

2. मध्यमकालिक इन्वेस्टमेंट(Medium time investment ) क्या होता है

दोस्तों जब हम 1 साल से लेकर 5 साल के बीच में कोई भी इन्वेस्टमेंट करते हैं इसे मध्यम काल  इन्वेस्टमेंट कहा जाता है मदन कार इन्वेस्टमेंट से हमारे हाई रिटर्न के चांस बढ़ जाते हैं तथा हमारे पास इन्वेस्टमेंट के ऑप्शन भी बढ़ जाते हैं

मध्यमकालिक इन्वेस्टमेंट(Medium time investment ) कहां करें

  •       शेयर स्टॉक
  •     गवर्नमेंट बॉन्ड्स
  •     रियल स्टेट
  •     बैंक एफडी
  •     सोना एंड चांदी
  •     जमीन
  •     शेयर मार्केट

 

3. दीर्घकालिक इन्वेस्टमेंट( Long time investment ) क्या होता है

दोस्तों जब हम किसी भी इन्वेस्टमेंट को 5 साल से अधिक समय के लिए करते हैं उसे लोंग टाइम इन्वेस्टमेंट कहा जाता है यह इन्वेस्टमेंट बहुत हद तक सुरक्षित होते हैं इसमें हमें हाई रिटर्न मिलने की चांस बढ़ जाते हैं इन्वेस्टमेंट हर कोई मध्यम वर्गीय परिवार कर सकता है

 

दीर्घकालिक इन्वेस्टमेंट( Long time investment ) कहां करें

  •       सरकारी बॉन्ड
  •     बैंक FD
  •     स्टॉक्स
  •     शेयर मार्केट
  •     रियल स्टेट
  •     म्यूच्यूअल फंड्स
  •     पब्लिक प्रोविडेंट फंड

 

इत्यादि क्षेत्रों में आप इन्वेस्टमेंट करके एक अच्छा हाई रिटर्न ले सकते हो इसमें अधिकतर लंबा समय लग जाता है

 

Secure investment क्या होता है  – Secure investment meaning in Hindi

दोस्तों सुरक्षित इन्वेस्टमेंट एक ऐसा इन्वेस्टमेंट होता है जहां पर आप अपने पैसे लगाते हो तो उसमें से पैसे आने की गारंटी  100% होती है आप उसमें किसी प्रकार का घाटा नहीं खा सकते हो यह इन्वेस्टमेंट रिस्क फ्री होता है आपको इसमें किसी प्रकार की चिंता करने की आवश्यकता नहीं होती है

 

unsecure investment क्या होता है – unsecure investment Hindi meaning

दोस्तों अन सिक्योर इन्वेस्टमेंट एक तरह की ऐसी इन्वेस्टमेंट होती है जहां से हाई रिटर्न के चांस ज्यादा होते हैं तो साथ में ही आपके पैसे डूबने के भी चांस ज्यादा होते हैं यह एक प्रकार का जुआ हो सकता है यदि आप इस प्रकार के इन्वेस्टमेंट की जानकारी नहीं रखते हो तो इस प्रकार की इन्वेस्टमेंट ना करें

 क्योंकि इसमें बहुत ज्यादा रिस्क होता है भाई रिटर्न होता है लालच में आकर ऐसी इन्वेस्टमेंट कर देते हैं ना बाद में पैसा डूब जाता है कभी-कभी पैसा इतना बढ़ जाता है कि आपके सपनों को पूरा कर सकता है

 

कहते हैं  “ नो रिस्क नो गेन ”

 

अन सिक्योर छेत्र में मुख्य रूप से आते हैं स्टॉक मार्केट,  स्टॉक ट्रेडिंग, फॉरेक्स ट्रेडिंग, क्रिप्टो करेंसी ट्रेडिंग, क्रिप्टोकरंसी इन वेस्ट इत्यादि

 

              Conclusion

दोस्तों अभी तक आपने जाना है कि Investment  क्या होती है,  Investment  कितने प्रकार की होती है,  अपना Paisa investment  कैसे और कहां करें,  Investment  और  shaving में क्या अंतर है

आशा करता हूं कि आप को इस लेख के माध्यम से इन्वेस्टमेंट के बारे में समझने में आसानी हुई होगी और इन्वेस्टमेंट और बचत में अंतर समझ आया होगा

 दोस्तों  इस आर्टिकल को अपने व्हाट्सएप ग्रुप्स और फ्रेंड्स में अवश्य शेयर करें ताकि उनको भी इस महत्वपूर्ण जानकारी की प्राप्ति हो अपनी राय रखने के लिए नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट अवश्य करें

About Dhirendra singh

मेरा नाम Dhirendra Singh Bisht है और मैं इस Technet ME फाउंडर और owner हूं , दोस्तों मैंने अभी अपनी डिग्री पूरी की है और मुझे लोगों की समस्याओं का हल करना अच्छा लगता है और मुझे लोगों को नई नई चीजें सिखाने में और Technology Business Banking ,Marketing के बारे में अच्छी जानकारी है

Leave a Comment