Delivery trading kya hai | डिलीवरी ट्रेडिंग क्या है ? Delivery trading कैसे करें – इंट्राडे और डिलीवरी ट्रेडिंग में अंतर है

Delivery trading kya hai | डिलीवरी ट्रेडिंग क्या है ? Delivery trading कैसे करें – इंट्राडे और डिलीवरी ट्रेडिंग में अंतर है, Delivery tradings rule and regulation how to do delivery trading,What is the mean of delivery trading, Delivery trading tips and tricks

हेलो दोस्तों आज आप इस लेख में जानने वाले हो कि Delivery trading kya hai, delivery trading kaise karen,  difference between delivery trading and intraday trading, Delivery tradings rule and regulation how to do delivery trading,What is the mean of delivery trading, Delivery trading tips and tricks 

चलिए जानते हैं कि डिलीवरी ट्रेडिंग क्या है और डिलीवरी ट्रेडिंग कैसे करते हैं और डिलीवरी ट्रेडिंग में क्या नियम होते हैं

Delivery trading kya hai | डिलीवरी ट्रेडिंग क्या है ? Delivery trading कैसे करें - इंट्राडे और डिलीवरी ट्रेडिंग में अंतर है

Delivery trading kya hai –डिलीवरी ट्रेडिंग क्या है

Delivery trading kya hai in Hindi -दोस्तों आप trading के बारे में जानते ही होंगे किtrading के कितने प्रकार होते हैं  trading के प्रकारों में से एक है Delivery trading   Delivery trading  में कुछ ऐसा होता है कि यदि कोई व्यक्ति इंट्राडे ट्रेडिंग के अंदर अपने शेयर खरीद लेता है और वह मार्केट बंद होने से पहले उसे नहीं  बेच पाता है तो  बहुत शेयर की पूरी कीमत अदा करता है और उसे अपने मन मुताबिक कई दिनों के लिए रख सकता है  इसे ही Delivery trading  कहते हैं 

जबकि इंट्राडे ट्रेडिंग के अंदर बिल्कुल इस  का उल्टा हुआ करता था  इंट्राडे ट्रेडिंग के अंदर आपको कुछ परसेंट लेवरेज मिल जाता था इसके लिए आपको पैसे कम लगाने पड़ते लेकिन आपको मुनाफा पूरा होता था लेकिन आपको इंट्राडे ट्रेडिंग में मार्केट बंद होने से पहले पहले अपने शेयर बेचने पढ़ते थे 

Delivery trading meaning in hindi – डिलीवरी ट्रेडिंग का अर्थ

Delivery trading [डिलीवरी ट्रेडिंग] का मतलब होता है कि आप किसी भी स्टॉक को होल्ड कर सकते हैं और फिर स्टॉक को Demat account में होल्ड कर सकता है। Delivery trading [डिलीवरी ट्रेडिंग] बिना कोई टाइम लिमिट के काम करता है, जिसका सीधा मतलब होता है कि आप अपनी इच्छा अनुसार उसे कभी भी मार्केट टाइम में बेच सकते हैं।

डिलीवरी ट्रेडिंग के नियम (Delivery Trading Rules in Hindi)

Delivery trading [डिलीवरी ट्रेडिंग] के भी कुछ अपने नियम होते  हैं इन नियमों के बारे में जानना एक ट्रेडर और स्टॉक मार्केट निवेशक कोबहुत जरूरी है  –

  • Delivery trading [डिलीवरी ट्रेडिंग] में आप ख़रीदे गए Share को लम्बे समय तक के लिए Hold कर सकते हैं.
  • Delivery trading [डिलीवरी ट्रेडिंग] के लिए Demat Account का होना आवश्यक होता है.
  • Delivery trading [डिलीवरी ट्रेडिंग] में Share को खरीदने के लिए निवेशक को पूरी राशि का भुगतान करना होता है.
  • Delivery trading [डिलीवरी ट्रेडिंग] में कोई मार्जिन मनी नहीं मिलता है, निवेशक को Share फिक्स कीमत में खरीदने होते हैं.

 

Delivery trading के फायदे क्या है- Delivery trading benefits in Hindi

  • Delivery trading में आप शेयर के पूरे पैसे अदा करते हो तो आप उस शेयर के होल्डर बन जाते हो
  • Delivery trading में आप अपने शेयर को कितने ही दिन के लिए अपने पास रख सकते हो 
  • Delivery trading में कोई आपको अपने शेयर बेचने के लिए बाध्य  नहीं कर सकता आप अपनी मर्जी के मालिक होते हो
  • कई बार कंपनियां जब फायदे में होती है तो वह शेयरों को बोनस में बांट देती है तो आपको एक शेर के साथ में एक शेयर बोनस मिल सकता है
  • जब आप अपना पैसा बैंक में रखते हो तब बैंक 7%  तक का मुनाफा देता है लेकिन आप अपने पैसे को Delivery trading  में  लगाते हो तो यह 15%  तक का मुनाफा दे सकता है
  • कई बार बैंक्स आपको  आपके शेयर के हिसाब से भी आप को लोन प्रदान करते हैं आपके पास में जितने ज्यादा शेयर होंगे इतना अच्छा आप को लोन मिल सकता है बैंक की तरफ से 
  • Delivery trading में आपको ब्रोकरेज बहुत ही कम देना पड़ता है 
  • Delivery trading में आपको मुनाफा होने के चांस बहुत ही ज्यादा होते हैं क्योंकि  अधिकांश लोग Delivery trading  में  मैं ही पैसा कमाते हैं

 

 Delivery trading में सावधानियां 

  • Delivery trading करते वक्त आपको कंपनी के शेयर के बारे में और कंपनी के बारे में आपको अच्छा नॉलेज होना चाहिए
  • Delivery trading में आपको एक लंबे समय के लिए इन्वेस्टमेंट करने के बारे में सोचना चाहिए
  • Delivery trading में आपको  किसी भी कंपनी के शेयर खरीदने से पहले आपको फंडामेंटल एनालिसिस करना चाहिए 
  • Delivery trading में आपको बहुत ही धैर्यवान होना पड़ता है क्योंकि मार्केट  चढ़ाव उतार होता रहता है जब आपके शेयर नीचे गिर जाए तब आप घबराइए गा नहीं क्योंकि आपके पास समय ही समय होता है एक न एक दिन आपको वैसे आपको फायदा जरूर पहुंचाएंगे
  • Delivery trading  में  लंबे समय के लिए इन्वेस्टमेंट के लिए ही ट्रेडिंग करें 

 

इंट्राडे ट्रेडिंग और डिलीवरी ट्रेडिंग में क्या अंतर है? – इंट्राडे और डिलीवरी ट्रेडिंग में अंतर

जब आप 1 दिन में शेयर खरीद कर 1 दिन में बेचते हैं तब उसे इंट्राडे ट्रेडिंग कहते हैं। जब आप उसी शेयर को उसी मार्केट टाइम के अंदर नहीं बेचते हैं तो वह आपके लिए डिलीवरी बन जाता है या उसे डिलीवरी ट्रेडिंग कहते हैं उसे हम अगले दिन बेच सकते हैं

शेयरों की डिलीवरी कितने दिन में होती है

इक्विटी डिलीवरी में, स्टॉक/शेयरों को निपटान अवधि ( ट्रेडिंग दिवस+2 कार्य दिवस ) के बाद डिलीवरी की जाता है, जबकि इंट्राडे ट्रेडिंग में स्टॉक्स का खरीद और भुगतान उसी दिन के अंतर्गत किया जाता है इसे हम अगले दिन के लिए नहीं रख सकते)

 

Delivery trading कैसे करें – डिलीवरी ट्रेडिंग कैसे करें

डिलीवरी ट्रेनिंग करने के लिए आपको सर्वप्रथम अपने पास में एक अच्छी कंपनी का डिमैट अकाउंट और ट्रेडिंग अकाउंट होना बहुत ही आवश्यक है आप आज किसी भी ब्रोकरेज फर्म में अपना डिमैट अकाउंट और ट्रेडिंग अकाउंट ओपन करा सकते हैं दोस्तों आज के टाइम में ही है मोबाइल में भी हो सकता है और आप मोबाइल के माध्यम से भी  डिलीवरी ट्रेडिंग बड़ी आसानी से कर सकते हैं

 

Delivery trading  के बारे में मेरा सुझाव

 दोस्तों अभी तक आपने जाना है कि Delivery trading kya hai, delivery trading kaise karen Delivery trading के फायदे क्या है  Delivery trading  के बारे में मेरा सुझाव यही है कि डिलीवरी ट्रेडिंग में बहुत ही कम नुकसान होने के चांस होते हैं पूरे विश्व में जितने भी  ट्रेडर हैं वह सारे ही लगभग डिलीवरी ट्रेडिंग में ही इन्वेस्टमेंट करते हैं चाहे वह राकेश झुनझुनवाला हो  या वारेन बुफेट  हो  क्योंकि डिलीवरी ट्रेडिंग में हम एक लंबे समय तक शेयर होल्ड कर सकते हैं जिसके कारण हम घाटे से उबर सकते हैं और फायदे की ओर जा सकते हैं आपको Delivery trading  में बहुत ही धैर्यवान होना पड़ता है

 दोस्तों अभी आप इन्वेस्टमेंट करना चाहते हो तो आप डिलीवरी ट्रेनिंग में इन्वेस्टमेंट कर सकते हो 

दोस्तों अभी तक आपने जाना है कि Delivery trading kya hai, delivery trading kaise karen,  difference between delivery trading and intraday trading, Delivery tradings rule and regulation how to do delivery trading,What is the mean of delivery trading, Delivery trading tips and trick इस आर्टिकल से संबंधित कुछ भी प्रॉब्लम हो या अपनी राय रखना चाहते हो तो कमेंट अवश्य करें या अपनी राय अवश्य रखें नीचे कमेंट बॉक्स है

About Dhirendra singh

मेरा नाम Dhirendra Singh Bisht है और मैं इस Technet ME फाउंडर और owner हूं , दोस्तों मैंने अभी अपनी डिग्री पूरी की है और मुझे लोगों की समस्याओं का हल करना अच्छा लगता है और मुझे लोगों को नई नई चीजें सिखाने में और Technology Business Banking ,Marketing के बारे में अच्छी जानकारी है

1 thought on “Delivery trading kya hai | डिलीवरी ट्रेडिंग क्या है ? Delivery trading कैसे करें – इंट्राडे और डिलीवरी ट्रेडिंग में अंतर है”

Leave a Comment