CVV code क्या होता है in hindi – CVV Code Meaning in Hindi

CVV code Kya hota Hai In Hindi ,CVV code meaning in Hindi ,CVV code  full form In Hindi – हेलो दोस्तों आज के इस आधुनिक जमाने में हर किसी का किसी ने किसी  Bank  के अंदर अपना Bank account  होता है और वह बैंक के द्वारा दी जानेवाली  credit card, debit card , और लोन तथा इंश्योरेंस की सर्विस का आनंद उठाता है और उनके द्वारा दिए जाने वाले  debit card  और  credit card , से वह ऑनलाइन शॉपिंग तथा इंटरनेशनल ट्रांजैक्शन करके लाभान्वित होता है 

दोस्तों आपने  credit card  और  debit card  के CVV code  के बारे में तो अवश्य सुना होगा जो कि किसी भी डेबिट कार्ड या क्रेडिट कार्ड के पीछे की तरफ प्लास्टिक की एक पट्टी पर छोटे से अंकों में होती है कभी आपने सोचा हैकि यह CVV code कोड क्या होता है ,CVV code  कैसे कार्य करता है, CVV code  जरूरी क्यों है, और CVV code  का आविष्कार कब और कैसे हुआ था 

दोस्तों यदि आप भी CVV code  के बारे में जानना चाहते हो तो आप इस लेख को शुरू से लेकर अंत तक अवश्य पढ़ें इसमें आप जानने  वाले हो की  CVV code  क्या है , CVV code  का Use  किस प्रकार होता है सीवीवी कोड का आविष्कार कब और कैसे हुआ,  दोस्तों यदि आपके मन में सीवीवी कोड को लेकर कुछ भी शंका है तो इसमें   आपकी संकाय अवश्य दूर होंगी 

CVV Code Kya Hota  Hai ? जानिए CVV Code Meaning in Hindi
CVV code क्या होता है – CVV Code Meaning in Hindi

CVV code क्या होता है – ( What is CVV code in Hindi )

दोस्तों हमारे  Bank  द्वारा दिए गए  Debit Card and Credit Card  के ऊपर शुरू में कुछ डेबिट कार्ड नंबर होते हैं जो कि 12 अंकों के होते हैं जस्ट कार्ड के पीछे एक मैग्नेटिक स्ट्रिप के ऊपर कुछ अंकों के कोड पाए जाते हैं जिन्हें cvv  code कहते हैं 

cvv  code को  csc  card security  code  भी कहते है  cvv  code का आविष्कार Michael Stone  ने सन 1995 में यूनाइटेड किंग्डम के अंदर किया था cvv  code  के शुरुआती समय में cvv  code  लगभग 11 से 12 अंकों के होते थे लेकिन बाद में उन्हें 3 अंकों में ही सीमित कर दिया गया इन cvv  code का मुख्य उद्देश्य आपके डेबिट कार्ड या क्रेडिट कार्ड को किसी भी धोखाधड़ी वाले व्यक्ति के हाथ में जाने से बचाने के लिए है अर्थात cvv  code  के बिना वह आपके कार्ड  से कोई भी लेनदेन नहीं कर सकता है 

दोस्तों जब भी आप कहीं पर भी किसी भी कार्ड से लेनदेन करते हैं जैसे Paytm  में Money add करना और फ्रीचार्ज कभी Money add  करना उस समय आपसे आपकी डेबिट कार्ड या क्रेडिट कार्ड की डिटेल पूछी जाती हैं और सीवीवी पिन भी उसने पूछा जाता है

cvv  code  का मुख्य उद्देश्य उस कार्ड पर आप के मालिकाना हक की पुष्टि करना होता है इसके बाद भी आगे पेमेंट पूरी होती है यदि आप पुष्टि नहीं कर सकते हो तो पेमेंट पूरी नहीं होती है 

 

 CVV code Full form in hindi 


CVV code full form :-  Card verification value  होता है 

CVC code full form :- Card verification code होता है 

CVV code full form in Hindi :- Card verification Value (कार्ड जांच मूल्य ) होता है

दोस्तों CVV code  बहुत ही महत्वपूर्ण  code होता है और इसका उपयोग अधिकतर ऑनलाइन ट्रांजैक्शन और डेबिट कार्ड और क्रेडिट कार्ड के द्वारा  लेनदेन में किया जाता है CVV code  में बहुत ही सावधानी बरती जाती है 

 
 

CVV code Meaning in hindi 

दोस्तों जैसा कि आप ऊपर ही पढ़ चुके  हो कि CVV code full form :-  Card verification value  होता है और CVV code  का Hindi meaning :-  Card verification Value (कार्ड जांच मूल्य ) होता है 

यह कोई कार्ड नंबर का हिस्सा नहीं होता है बल्कि यह आपके डेबिट और क्रेडिट कार्ड को सिक्योरिटी देने वाला एक कोड होता है इसके बिना आपकी Online payment  अधूरी रह सकती है और इसका दुरुपयोग आपको बहुत महंगा पड़ सकता है 



CVV code का पता कैसे करें – CVV code कार्ड में कहां होता है 

दोस्तों जैसा कि आप जानते हो MasterCard  Visa Card  और Rupay card  ,के अंदर कार्ड के शुरुआत में या अभी तक कुछ कार्ड नंबर होते हैं और कार्ड धारक की कुछ डिटेल होती हैं 

तथा उस कार्ड के जस्ट पीछे एक काले रंग की मैग्नेटिक स्ट्रिप पाई जाती है उस काले रंग की मैग्नेटिक स्ट्रिप के ऊपर 3 अंकों का एक सिक्योरिटी कोड अंकित होता है उसे ही सीवीवी कोड cvv  code  कहते हैं

दोस्तों American Express  के डेबिट कार्ड क्रेडिट कार्ड पर  4  अंको का cvv  code  अंकित होता है जो कि American Express  डेबिट कार्ड या क्रेडिट कार्ड के आगे ही अंकित होता है 

 

 

CVV code  जरूरी क्यों है  – ( Why we need CVV code) 

दोस्तों cvv  code  को  डेबिट कार्ड या क्रेडिट कार्ड कार्ड धारकों की सुरक्षा  की दृष्टि से बहुत ही जरूरी माना जाता है क्योंकि यदि हम cvv  code  का सही से इस्तेमाल करते हैं तो हमें लेन-देन में कोई प्रॉब्लम नहीं आती है और क्रेडिट कार्ड डेबिट कार्ड से होने वाले धोखाधड़ी और से बचाता है 

यदि मान लीजिए कोई भी आपके डेबिट कार्ड या क्रेडिट कार्ड मैग्नेटिक स्ट्रिप में कोई भी बदलाव ला देता है तो वह मशीन आपके कार्ड  डालते ही  कार्ड Eror का ऑप्शन शो करती है  आपके साथ में होने वाली धोखाधड़ी का संकेत देती है ऐसे में आप होने वाले धोखाधड़ी से बच जाते हो 

दोस्तों यदि आप ऑनलाइन शॉपिंग करते हो, या  बहुत ही ज्यादा डेबिट कार्ड और क्रेडिट कार्ड से  ऑनलाइन ट्रांजैक्शन करते हो ऐसे हालातों में CVV Code बहुत ही आवश्यक होता है  क्योंकि CVV Code  के द्वारा ही आपके  डेबिट कार्ड के ऊपर आपके मालिकाना हक की पुष्टि होती है

 

CVC And  CVV code के मध्य अंतर क्या है – (Difference between CVC and CVV code in Hindi) 

दोस्तों देखा जाए तो CVV Code(Card verification value) और CVC code (Card verification code) के मध्य कोई भी खासा अंतर नहीं होता है क्योंकि इन दोनों को  एक ही मकसद के लिए बनाया गया है इन दोनों को बनाने का मुख्य उद्देश्य किसी भी डेबिट कार्ड या क्रेडिट कार्ड धारक को पूर्ण रूप से सुरक्षा प्रदान करना है 

फिर भी कार्ड की कंपनी के द्वारा उपयोग  की जाने वाली तकनीक के आधार पर इसमें अंतर यह होता है कि 

1.    CVV code  :-  Card verification value इस तकनीक का उपयोग Visa  नामक  एक अमेरिकन  कार्ड कंपनी  करती है इसमें अधिकतर ट्रांजैक्शन ऑनलाइन होती है

 

2.    CVC code  :- Card verification code  इस तकनीक का उपयोग Mastercard नामक एक अमरीकी एक कार्ड प्रदान करने वाली कंपनी करती है इसमें अधिकांश लेनदेन इंटरनेशनल होता है 

 

CVV code का उपयोग कैसे  किया जाता है – (How to use CVV code in Hindi ) 

दोस्तों जब भी हम अपने डेबिट कार्ड एटीएम कार्ड या क्रेडिट कार्ड से कोई भी ऑनलाइन ट्रांजैक्शन पूरी करते हैं उस समय हम से कुछ मुख्य डिटेल मांगी जाती हैं जैसे कार्ड नंबर, और कार्ड वैलिडिटी, तथा अंत में CVC code 

1.डेबिट या क्रेडिट कार्ड का नंबर 

2.   कार्ड वैलिडिटी या कार्ड की अंतिम तिथि 

3.   डेबिट कार्ड क्रेडिट कार्ड की मैग्नेटिक स्ट्रिप पर उपस्थित CVV code  जो 3 अंक का या 4 अंक का होता है 

दोस्तों इन तीनों जरूरी डिटेल में से यदि एक भी ना हो तो ऑनलाइन ट्रांजैक्शन पूरी नहीं होती है

दोस्तों जब भी हम किसी ऑनलाइन ट्रांजैक्शन में अपने कार्ड के माध्यम से पेमेंट करते हैं तब उस समय हम अपने कार्ड की डिटेल भरकर और उसमें अपनी कार्ड की अंतिम तिथि भरते हैं तथा लास्ट में CVV code उसमें भरते हैं 

और एक एसएमएस के द्वारा  आपकी मालिकाना हक की पुष्टि की जाती है तथा  पुष्टि होने के बाद  आपके  क्रेडिट कार्ड या डेबिट कार्ड से पेमेंट कट जाती है और वह ट्रांजैक्शन पूरी हो जाती है 

 

CVV code हमें फ्रॉड से कैसे बचाता है

दोस्तों डेबिट कार्ड एंड क्रेडिट कार्ड यह बैंकिंग सिस्टम का हिस्सा जरूर है लेकिन इनका अपना अलग पेमेंट गेटवे होता है जैसे मास्टर कार्ड पेमेंट गेटवे विजा कार्ड पेमेंट गेटवे इत्यादि 

जिस प्रकार नेट बैंकिंग का यूज करके हम ऑनलाइन लेनदेन करते हैं नेट बैंकिंग में  हम हमारी बैंकिंग यूजर आईडी एंड पासवर्ड लगाते हैं तथा लेनदेन शुरू करते हैं

लेकिन   क्रेडिट कार्ड और डेबिट कार्ड के संबंध में ऐसा कुछ नहीं होता है हम इन का प्रयोग किसी भी वेबसाइट पर लेनदेन के लिए कर सकते हैं इसके लिए कोई यूजर आईडी नहीं होती है

मान लीजिए यदि आपके क्रेडिट कार्ड एंड डेबिट कार्ड का नंबर और कुछ जरूरी डिटेल्स किसी हैकर को मालूम चल जाती है और उसको CVV code के बारे में पता नहीं होता है तो वह सिर्फ आप की जानकारी ही देख सकता है  

वह आपके पेमेंट को एक्सेस नहीं कर सकता है क्योंकि उसको आपका CVV code  सत्यापन करना होता है जो कि उसे मालूम नहीं होता है इस प्रकार CVV code  क्रेडिट कार्ड एंड डेबिट कार्ड में होने वाले रोड से हमें बचाता है 

CVV code की कमियां क्या है – Disadvantage of Cvv Code in Hindi 

 दोस्तों जिस प्रकार टेक्नॉलोजी ने हमारे बैंकिंग सर्विस को बहुत ही आसान और सुलभ  बना दिया है वहीं पर  आज के समय पर ऑनलाइन थी बहुत ही ज्यादा मात्रा में सक्रिय है उनसे बचना बहुत ही महत्वपूर्ण होता है 

CVV code हमें कई परिस्थितियों में बचाने से  वंचित रह जाता है क्योंकि उसमें इसकी कोई गलती नहीं होती है बल्कि गलती हमारी ही होती है हम किसी लालच में आकर अपने सारे डिटेल को  अगले को बता देते हैं  और वह सारा पैसा लेकर चंपत हो जाता है 

दोस्तों यदि कोई हैकर हमारे डेबिट कार्ड या क्रेडिट कार्ड को क्लोन कर लें अर्थात हमारे ही जैसे क्रेडिट कार्ड और डेबिट कार्ड नंबर से डिटेल वाला एक अलग कार्ड बना ले  जिसमें मैग्नेटिक स्ट्रिप भी सेम हो और उसमें डाटा भी सेम हो  ऐसे  हालात में वह  हैकर CVV code को एक्सेस कर लेता है और हमारे सारे पैसे को उड़ा देता है 

दोस्तों हम ऐसी फ्रॉड को सावधानी पूर्वक निपट सकते हैं है कोई इतना ज्यादा खतरा नहीं होता है 

 

                  Conclusion 

दोस्तों इस लेख के माध्यम से अभी तक आपने जाना है कि CVV code क्या है ,CVV code hindi meaning,और  CVV code का उपयोग क्या है तथा CVV code  का आविष्कार कब और कैसे हुआ था 

दोस्तों आशा करता हूं कि आप हो यह लेख समझ आया होगा आपको इस लेख के माध्यम से पर्याप्त जानकारी मिली होगी और आप को CVV code  के बारे में समझने में आसानी हुई होगी

दोस्तों इसलिए उनको अपने दोस्तों रिश्तेदारों और व्हाट्सएप ग्रुप में अवश्य शेयर करें ताकि उन्हें भी इस महत्वपूर्ण जानकारी प्राप्त हो 

About Dhirendra singh

मेरा नाम Dhirendra Singh Bisht है और मैं इस Technet ME फाउंडर और owner हूं , दोस्तों मैंने अभी अपनी डिग्री पूरी की है और मुझे लोगों की समस्याओं का हल करना अच्छा लगता है और मुझे लोगों को नई नई चीजें सिखाने में और Technology Business Banking ,Marketing के बारे में अच्छी जानकारी है

Leave a Comment