कोर्ट मैरिज कैसे होती है- 1 दिन में कोर्ट मैरिज कैसे करें? 1 Din me court marriage kaise kare

court marriage kaise kare , कोर्ट मैरिज कैसे होती है- 1 दिन में कोर्ट मैरिज कैसे करें? 1 Din me court marriage kaise kare , कोर्ट मैरिज कैसे होती है- 1 दिन में कोर्ट मैरिज कैसे करें? 1 Din me court marriage kaise kare,कोर्ट मैरिज करने के लिए बनाए गए नियम,कोर्ट मैरिज करने के फायदे,कोर्ट मैरिज होने के नुकसान,कोर्ट मैरिज में कौन-कौन से डाक्यूमेंट्स लगते हैं

–  हेलो दोस्तों आज हम इस आर्टिकल में जानेंगे कि कोर्ट मैरिज क्या होती है वह कोर्ट मैरिज कैसे होती‌ है तथा इसके क्या क्या लाभ व नुकसान हो सकते हैं कोर्ट मैरिज कितने दिनों में होती है आदि सब के बारे में—

आइए जानते हैं विस्तार से कोर्ट मैरिज के  बारे में –

कोर्ट मैरिज कैसे होती है
कोर्ट मैरिज कैसे होती है

कोर्ट मैरिज क्या है –

कोर्ट मैरिज कोर्ट मैरिज बिना किसी फंक्शन परंपरागत समारोह के कोर्ट में ऑफिसर के सामने संपन्न होती है सभी कोर्ट मैरिज में विवाह अधिनियम के तहत संपन्न की जाती है कोर्ट मैरिज किसी भी धर्म संप्रदाय जाति के बालिग युवक-युवती के बीच हो सकती है|

किसी भी विदेशी व भारतीय की भी कोर्ट मैरिज हो सकती है कोर्ट मैरिज में जात पात नहीं देखी जाती ना ही कोई परंपरागत रसम की जाती  है| लेकिन इसमें माता-पिता की मंजूरी भी आवश्यक होती है| 

कोट मैरिज का अर्थ सीधे शब्दों में कहा जाए तो कानूनी रूप से पति पत्नी बन्ना कोर्ट मैरिज होती है यह शादी ऑफिसर संपन्न कराता है और इसमें तीन गवाह की आवश्यकता होती है और कोर्ट मैरिज करने के लिए हमें कम से कम 10 से 20000 तक का खर्चा हो जाता है

भारत ऐसा देश है जहां  कई धर्मों के लोग एक साथ रहते हैं  और यहां सभी धर्मों की शादियां रीति-रिवाजों के अनुसार की जाती है हालांकि देश में कोर्ट मैरिज सबसे अलग है कोर्ट मैरिज के दौरान बिना किसी रस्मो और रिवाजों से कानूनी रूप से लड़का लड़की एक रिश्ते में बंध जाते हैं अब ज्यादातर नवविवाहित जोड़े अपने रिश्ते को कानूनी रूप देने के लिए वी कोर्ट मैं भी जाते हैं  मैरिज सर्टिफिकेट बनवाते हैं| 

कोर्ट मैरिज कैसे होती है – court marriage kaise kare

यदि लड़का लड़की दूसरे धर्म में शादी करना चाहते हैं तो इस स्थिति में उन्हें संबंधित जिला के विवाह अधिकारी के पास अपनी शादी की एक लिखित सूचना देनी होगी हालांकि किसी को इस शादी से आपत्ति है तो वह 30 दिनों के भीतर अपनी शिकायत कर सकता है|

यदि किसी ने कोई शिकायत दर्ज नहीं करवाई तो वह विवाहित रजिस्ट्री की फीस देखकर शादी करवा देते हैं| और शादी हो सकती है कोर्ट में शादी संपन्न करवाने के लिए तीन गवाहों की आवश्यकता होती है शादी की रजिस्ट्रेशन करवाने की प्रक्रिया काफी लंबी होती है|

और उसके लिए अलग-अलग फीस भी निर्धारित की जाती है वैसे तो कोर्ट मैरिज करने की नियुक्ति फीस ₹1000 है लेकिन काल जी कार्यवाही और वकीलों को लेकर यह खर्च कम से कम 10000 से 20000 तक आ ही जाता है

1 दिन में कोर्ट मैरिज कैसे करें Court Marriage In 1 Day

भारत में हिंदू की शादी के लिए मैरिज एक्ट 1955 या फिर स्पेशल मैरिज एक्ट 1954 इसके तहत सारी शादियों का रजिस्ट्रेशन किया जाता है। इस एक्ट के अनुसार जो भी कोर्ट मैरिज करता है। उसकी कोर्ट मैरिज करने के लिए डॉग कुछ डाक्यूमेंट्स की आवश्यकता पड़ती है

 

कोर्ट मैरिज करने के लिए बनाए गए नियम—

कोर्ट मैरिज करने के लिए लड़का और लड़की बालिग होने चाहिए पुरुष की आयु 21 वर्ष से ज्यादा होनी चाहिए और महिला की उम्र 18 वर्ष से अधिक होनी चाहिए इसके अलावा शादी करने वाले लड़का लड़की दोनों ही मानसिक रूप से स्टेबल यानी स्वच्छ होने चाहिए|

शादी करने वाले लड़का और लड़की को मैरिज रजिस्टर के सामने अपनी शादी का आवेदन देना होता है शादी का आवेदन करने वाले लड़का और लड़की पहले से शादीशुदा नहीं होने चाहिए

यदि शादी करने वाले लड़का और लड़की मेरे से किसी ने पूर्ण में शादी की थी तो उनका तलाक हुआ होना चाहिए| शादी करने वाले दोनों लड़का और लड़की की आपसी सहमति होनी चाहिए|

शादी करने वाले लड़का और लड़की को एक फॉर्म ऑनलाइन डाउनलोड करना होता है जिसमें उन्हें अपनी कोर्ट मैरिज का नोटिस डिक्लेरेशन कराना होता है| दोनों के माता-पिता की सहमति भी होनी चाहिए|

कोर्ट मैरिज करने के फायदे–

कोर्ट मैरिज करने से पैसों की बहुत बचत होती है इस तरह की शादी बहुत ही कम खर्चा होता है इस शादी में किसी तरह की सजावट लेन-देन का खर्चा बड़े-बड़े प्रोग्राम उनका खर्चा भी बचता है खाने-पीने का खर्चा भी बच जाता है|

शादियों को लेकर बहुत सारे चल रहे रीति रिवाज करने की टेंशन होती है और उन पर आने वाला खर्चा वही कोर्ट मैरिज में किसी तरह के रीति रिवाज नहीं होते जिससे व्यक्ति को तनाव बहुत कम होता है कोर्ट मैरिज कुछ ही घंटों में पूरी हो जाती है जिससे व्यक्ति का समय बचता है|

कोर्ट मैरिज होने का एक फायदा यह भी है कि शादी में सिर्फ आपके करीबी लोग ही आएंगे यानी कि जिनका होना आपके लिए मायने रखता है| शादी की विभिन्न विभिन्न रस्मों से मुक्ति मिलेगी यानी कि हमें जो साधारण शादी करनी पड़ती है|

वह परिवार के कई रीति-रिवाजों से बंधी होती है कोर्ट मैरिज में ऐसा कुछ भी नहीं होता हम रीति-रिवाजों और रस्मो से मुक्त होते हैं| तथा शादी के समय खाने की वेस्टेज नहीं होगी हम जिन रिश्तेदार वह हम से संबंधित दोस्तों को बुलाएंगे वही आएंगे और एक्स्ट्रा में खाना  वेस्ट नहीं होगा|

और शादी में ज्यादा भीड़ ना होकर केवल हमारे पारिवारिक लोग व हमारे खास रिश्तेदारों से ही शादी संपन्न हो जाएगी और हमें परेशान करने वाले रिश्तेदार भी नहीं होंगे जिससे कि हमारी शादी में इज्जत बनी रहेगी|

कोर्ट मैरिज होने के नुकसान–

कोर्ट मैरिज की वजह से आपका परिवार व आपके संबंधित जानकार लोग आपसे नाराज हो सकते हैं। तथा आपका घर बार उस शादी से सहमत ना हो तो आपको अपने घर में परिवार में इज्जत नहीं मिलेगी तथा 1 तरीके से आप अपने परिवार से विमुख हो जाएंगे |  जिसका परिणाम होगा कि आप का इस दुनिया में आपके पति या पत्नी के अलावा कोई साथी नहीं रहेगा।

अधिकतर केसों में लड़की या लड़के को शादी के लिए घर की सपोर्ट नहीं होती है तथा जिससे कि उनकी इज्जत समाज में लोग ताने मार के खराब करना चाहते हैं तथा साथ ना देने पर नाराजगी बनी रहती है |

तथा परिवार ऐसे परिवार में तनाव का माहौल बन सकता है| परिवार का साथ न देने पर अकेलापन और तनाव होता है जिससे विवाह पर बुरा प्रभाव पड़ता है और ऐसे में विवाह के टूटने  का खतरा बढ़ जाता है| 

कोर्ट मैरिज में कौन-कौन से डाक्यूमेंट्स लगते हैं–

 1. विवाह पंजीकरण का आवेदन पत्र

 2. फोटो दो जोड़े में

 3. आयु प्रमाण पत्र मार्कशीट एवं जन्म प्रमाण पत्र

 4. निवास प्रमाण पत्र

 5. आईडी कार्ड ड्राइविंग लाइसेंस पैन कार्ड इनमें से कोई एक

 6.  दो गवाह उनकी फोटो

 

कोर्ट मैरिज कितने दिनों में हो जाती है – 1 Din me court marriage kaise kare

36 दिन का समय लगता है कोर्ट मैरिज करने में कोर्ट के कुछ नियम कानून होते हैं| जिनको फॉलो करने में आपको 36 दिन का समय लग जाता है पहले तो आप को शादी के लिए एप्लीकेशन देनी होती है| 

फिर उसके बाद आपको अपने सारे डाक्यूमेंट्स देने होते हैं सारे डाक्यूमेंट्स देने के बाद रजिस्टर ऑफिस से एक नोटिस आपके घर भेजा जाता है नोटिस भेजने के बाद विवाह का समाचार वहां के न्यूज़पेपर में निकाला जाता है| 

 यह सब प्रक्रिया करने में काफी समय लग जाता है इसीलिए आप 1 दिन में कोर्ट मैरिज नहीं कर सकते यदि आप 1 दिन में विवाह करना चाहते हैं तो आपका एक अलग संविधान भी है 1 दिन में विवाह कर सकते हैं यदि आप हिंदू धर्म के हैं|

तो तो आप मंदिर में विवाह कर वहां से सर्टिफिकेट बनवाकर अपने रजिस्टर ऑफिस में एक एप्लीकेशन मैसेज के लिए एक आवेदन डाल सकते हैं और यह सर्टिफिकेट बनाने में सिर्फ 1 दिन का समय लगता है इस प्रकार आप 1 दिन में कोर्ट मैरिज कर सकते हैं

About Dhirendra singh

मेरा नाम Dhirendra Singh Bisht है और मैं इस Technet ME फाउंडर और owner हूं , दोस्तों मैंने अभी अपनी डिग्री पूरी की है और मुझे लोगों की समस्याओं का हल करना अच्छा लगता है और मुझे लोगों को नई नई चीजें सिखाने में और Technology Business Banking ,Marketing के बारे में अच्छी जानकारी है

Leave a Comment