Cheque bounce क्या होता है-Cheque bounce meaning in Hindi

Cheque bounce kya hota hai in hindi,-Cheque bounce meaning in Hindi,Cheque Bounce Bank charges दोस्तों आज के इस डिजिटल युग में Bank Cheque   को कौन नहीं जानता है वैसे तो इस समय चेक से लेनदेन का प्रचलन कम हो चुका है

लेकिन बड़े बड़े बिजनेस में अभी भी Cheque के माध्यम से ही लेनदेन किया जाता है चेक के माध्यम से लेनदेन करोड़ों रुपयों के अंदर होता है और लगभग बड़े बिजनेस या लघु बिजनेस चेक के माध्यम से ही लेनदेन करते हैं

दोस्तों जैसा कि आप जानते हो चैक  के माध्यम से लेनदेन करते समय हमारे Bank account में चेक में लिखी गई राशि के बराबर रुपए होने चाहिए यदि दोस्तों हमारे Bank account   में रुपए नहीं होते हैं तो ऐसे समय में क्या होता है इसे क्या कहते हैं अर्थात

Cheque bounce क्या है ,Cheque bounce in Hindi ,Cheque bounce होने पर क्या करें ,Cheque bounce होने पर क्या कार्यवाही की जा सकती है

दोस्तों चेक बाउंस के बारे में जानने के लिए इस लेख को शुरू से लेकर अंत तक अवश्य पढ़ें इसमें आप Check bounce क्या है ,Check bounce in Hindi  के बारे में  एक अच्छी जानकारी प्राप्त होगी

Cheque  bounce क्या होता है-Cheque  bounce meaning in Hindi
Cheque bounce क्या होता है-Cheque bounce meaning in Hind

 

Cheque bounce क्या होता  है – Cheque bounce meaning in Hindi

Cheque bounce क्या होता है-Cheque bounce meaning in Hindi-  है दोस्तों इस प्रश्न का जवाब आप एक उदाहरण के रूप में ले सकते हो

दोस्तों इस मान लीजिए यदि आप किसी दूसरे व्यक्ति को पेमेंट अदा करने के लिए कुछ रुपयों का चेक काट कर देते हो वह व्यक्ति चेक को लेकर बैंक  जाता है और अपना पेमेंट निकाल लेता है, लेकिन जब वह व्यक्ति अपना चेक क्लियर करने के लिए बैंक जाता है और उसे आपके अकाउंट में पैसे नहीं मिलते हैं तो ऐसी स्थिति में इस चेक को Cheque bounce कहा जाता है

Cheque  bounce होने की स्थिति में आप पर कानूनी कार्रवाई की जा सकती है आपको कुछ पेनल्टी लग सकती है या आप को जेल भी हो सकती है

 

Cheque कितने समय तक वैध होता है – (Cheque validity in Hindi)

Cheque bounce meaning in Hindi – Cheque की वैधता – दोस्तों  कोई भी व्यक्ति जब किसी के नाम का चेक करता है तो वह चेक लगभग 3 महीने तक वैद्य होता है वह चेक धारक कभी भी बैंक जाकर अपने चेक को क्लियर करवा सकता है  और Cheque  अपने अकाउंट में लगवा सकता है

ज्यादातर चेकों को  3 दिन या 5 दिन के अंदर अपने अकाउंट में लगवा देना चाहिए यदि आप 3 महीने बाद अपने बैंक  चेक को लेकर जाओगे तब बैंक आपके चेक को क्लियर नहीं करेगा और आपको खाली हाथ लौट कर आना पड़ेगा  और उस चैट का कोई भी मूल्य नहीं रह जाता है

 

Cheque bounce होने के कारण – (Cheque Bounce reason in Hindi)

दोस्तों बैंकों में Cheque bounce होने के कई कारण हो सकते हैं Cheque bounce होने के मुख्य कारणों में से कुछ कारण निम्नलिखित हैं

 

  1. Cheque जारीकर्ता के बैंक अकाउंट में  अपर्याप्त धन होना 
  2.   Cheque की रसीद में किसी प्रकार का करेक्शन 
  3.   हस्ताक्षर का ना मिलना 
  4.   नकली चेक होने का संदेश 
  5.   Cheque का कटा फटा होना 
  6.   Cheque को तारीख के साथ जारी न करना 
  7.   अंको में और शब्दों में लिखी गई राशि का मिलान ना होना 
  8.   ओवरड्राफ्ट की सीमा को पार करना 
  9.   Cheque जारीकर्ता का अकाउंट बंद होना 
  10. Cheque जारीकर्ता के द्वारा रोक दिया जाना

Cheque bounce होने पर क्या करें –  (What should we do If Cheque bounce) 

दोस्तों हम अक्सर Cheque bounce  होने की घटनाओं को सुनते रहते हैं और अक्सर यही होता है कि Cheque bounce  की घटनाओं में बैंक उनसे कुछ चार्ज वसूल ता है और आगे से ऐसे ना करने की सलाह  देता है  दोस्तों यदि आपका कोई Cheque bounce  बाउंस होता है तो उस समय आप क्या कर सकते हो चलिए जानते हैं

दोस्तों  ज्यादातर Cheque bounce  की घटना है Cheque (Cheque bounce meaning in Hindi)   जारीकर्ता के बैंक अकाउंट में पर्याप्त धन के ना होने की वजह से ही होती है , दोस्तों यदि इसी कारण से आपका कोई चेक बाउंस हो चुका है  तो आप 30 दिन के अंदर उस चेक जारी करता को एक वकील भी मदद से लीगल नोटिस भेज सकते हो

यदि यह आपका पैसा अभी भी नहीं देता है  तो आप 15 दिन के अंदर अपनी वकील की मदद से जिला कोर्ट में स्टे खिलाफ मुकदमा दायर कर सकते हो जिसके बाद  उस आरोपी को सजा मिलेगी और आपकी चेक राशि के दुगना उसको जुर्माना भरना पड़ेगा

दोस्तों यदि Cheque  जारीकर्ता के किसी भी कारण से आपका चेक बाउंस होता है तो आप सही समय पर उससे कानूनी मुकदमे से आप अपने पैसे को बचा सकते हो

 

Cheque bounce होने पर क्या कार्रवाई हो सकती है

दोस्तों Cheque bounce  होने की स्थिति में बैंक द्वारा गिरहा को एक रसीद दी जाती है जिसमें Cheque bounce होने का संपूर्ण कारण लिखा हुआ होता है कि किस वजह से यह चेक Cheque bounce  हुआ है

बैंक ग्राहक को इस चेक के माध्यम से दोबारा 3 महीने बाद चेक क्लियर करने के लिए कहता है यदि एक ग्राहक कानूनी कार्रवाई चाहता है तब वह चेक जारीकर्ता के खिलाफ  एक लीगल नोटिस भेज सकता है और  उसके खिलाफ जिला कोर्ट में मुकदमा दायर कर सकता है

दोस्तों Cheque bounce  होने की स्थिति में लेनदार को 30 दिन के अंतर्गत अपना केस  जिला कोर्ट में दायर करवाना होता है यदि वह 30 दिन से लेट  हो जाता है तब कोर्ट इस देरी का कारण पूछता है यदि आप स्पष्टीकरण नहीं दे पाए तब पोर्ट आपके इस केस को सुनने से इनकार कर देगा

यदि Cheque  जारीकर्ता दोषी पाया जाता है तो उसे उस चेक में लिखी गई राशि के  दोगुने पैसे आपको हरजाना के रूप में देना होगा और 2 साल की सजा भी  सुना दी जा सकती है

 

Cheque bounce के नए नियम – (Cheque bounce New rules in Hindi)

दोस्तों Cheque  का  bounce  होना एक बहुत ही बड़ा अपराध है उसके कारण कई व्यक्तियों को मानसिक रूप से पीड़ा होती है और कई व्यक्तियों को अपमान का घूंट भी पीना पड़ सकता है

Cheque bounce जैसे गंभीर घटनाओं के लिए संसद में एक कानून पास किया गया है उसके तहत यदि किसी का Cheque bounce हो जाता है तब वह 30 दिन के अंतर्गत चेक जारी करता के खिलाफ केस कर सकता है  और कोर्ट  चेक जारी करता है वह 20%  तुरंत मुआवजा देने के लिए  आदेश देता है

यदि चेक जारी करता निर्दोष पाया जाता है और बड़ी हो जाता है तब ऐसे में  केस  करने वाले के खिलाफ कोर्ट फैसला सुनाता है  उसमें केस करने वाले को मुआवजे की राशि सहित  उसके पैसे को लौटआना पड़ेगा  और इसे जेल भी हो सकती है

 

Cheque bounce होने पर बैंक कितना Charge वसूलते हैं – (Cheque bounce charge by bank)

 


  1.     Cheque bounce charge in SBI Bank

दोस्तों यदि SBI Bank  का Cheque bounce  होता है तो यदि चेक ₹100000 तक का होता है इस पर ₹10 चार्ज होता है यदि चेक एक लाख से अधिक का होता है तो उस पर ₹250 का चार्ज + में जीएसटी चार्ज होता है

यदि अकाउंट में पर्याप्त धन के कारण चेक बाउंस होता है तो ₹500 चार्ज होता है यदि कोई तकनीकी खराबी के कारण चेक बाउंस होता है तो उस पर ₹150 चार्ज होता है

2.     Cheque Bounce charge in Bank of Baroda

 

दोस्तों यदि  Bank of Baroda बैंक में बैंक अकाउंट में पर्याप्त धन के कारण Cheque bounce   होता है तो यदि चेक ₹100000 तक का होता है तो उस पर  बैंक ऑफ बड़ौदा बैंक  ₹250 तक का चार्ज  वसूल करता है

यदि किसी नॉनफाइनेंशियल कारण के की वजह से Cheque bounce   होता है तो चेक रिटर्न का फाइन ₹250 होता है

3.     Cheque Bounce charge in Axis Bank

यदि दोस्तों  Axis Bank  में बैंक अकाउंट में कम राशि अर्थात पर्याप्त धनराशि के चलते  Cheque bounce  होता है तो  उस पर  ₹500 का चार्ज लगता है

दोस्तों जाकर बैंकों में Cheque bounce   का मुख्य कारण बैंक खाते में अपर्याप्त धन का ही होता है

4.     Cheque Bounce charges in HDFC Bank

दोस्तों यदि  HDFC Bank में Cheque bounce होता है तो एक तिमाही में पहली बार Cheque bounce होता है तो ₹350 चार्ज लगता है इसके बाद दोबारा Cheque bounce   होता है तो ₹750 चार्ज वसूला जाता है

यदि कोई तकनीकी प्रभाव के कारण Cheque bounce   होता है तो उस पर सिर्फ ₹50 का चार्ज वसूला जाता है

5.     Cheque Bounce charge in ICICI Bank

दोस्तों यदि ICICI Bank का Cheque bounce   हो जाता है तो ₹350 चार्ज लिया जाता है यदि  बैंक अकाउंट में अपर्याप्त धनराशि के चलते Cheque bounce   होता है तो  ₹750  चार्ज लिया जाता है

यदि कोई तकनीकी खामी है के चलते Cheque bounce   हो जाता है तो सिर्फ ₹50 चार्ज लिया जाता है

दोस्तों Cheque bounce   होना एक बहुत ही गंभीर अपराध होता है इसमें कई व्यक्तियों की मानसिक  हालात एवं, अपमान का सामना करना पड़ सकता है तो इसलिए चेक जारी करते समय हमेशा ही ध्यान रखें

 

              Conclusion 

दोस्तों आज आपने इस लेख के माध्यम से Cheque bounce क्या है ,Cheque bounce in Hindi ,Cheque bounce होने पर क्या करें ,Cheque bounce होने पर क्या कार्यवाही की जा सकती है  और Cheque bounce  की स्थिति में बैंक द्वारा लिए जाने वाले चार्ज के बारे में जाना है

दोस्तो आशा करता हूं कि आपको यह लेख  से Check bounce   के बारे में जानने में मदद मिली होगी  और आपको अच्छी तरह समझ आया होगा

दोस्तों अपनी राय रखना चाहते हो तो नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट अवश्य करें और इस लेख को अपने दोस्तों व्हाट्सएप ग्रुप और नजदीक तम रिश्तेदारों में अवश्य शेयर करें ताकि उनको भी इस महत्वपूर्ण जानकारी की प्राप्ति हो

About Dhirendra singh

मेरा नाम Dhirendra Singh Bisht है और मैं इस Technet ME फाउंडर और owner हूं , दोस्तों मैंने अभी अपनी डिग्री पूरी की है और मुझे लोगों की समस्याओं का हल करना अच्छा लगता है और मुझे लोगों को नई नई चीजें सिखाने में और Technology Business Banking ,Marketing के बारे में अच्छी जानकारी है

Leave a Comment